Breaking :
||गुमला: रांची सेंट जेवियर्स स्कूल के प्रिंसिपल की अनियंत्रित कार ने कई लोगों को रौंदा, तीन महिला समेत चार की मौत, तस्वीरें||पलामू: शीर्ष माओवादी अभिजीत यादव और प्रसाद यादव के ठिकानों पर NIA की छापेमारी||झारखंड के राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन कल आयेंगे लातेहार, जनता से करेंगे सीधा संवाद||रांची में अपराधी की गोली मारकर हत्या, कालू लामा हत्याकांड में गया था जेल||लातेहार: चंदवा में टावर से लोहा काटते चार लोग रंगेहाथ गिरफ्तार, देशी कट्टा व जिंदा गोली बरामद||झारखंड में नहीं मिलेगी गर्मी से राहत, अभी और बढ़ेगा तापमान, अलर्ट जारी||शिबू सोरेन की अध्यक्षता में 10 जून को होगी झारखंड राज्य समन्वय समिति की बैठक||पलामू: बस पकड़ने का इंतजार कर रहे TSPC उग्रवादी को पुलिस ने पकड़ा||पलामू: शराब की लत से परेशान छोटे भाई ने कर दी थी बड़े भाई की हत्या, पुलिस ने किया खुलासा||लातेहार: शहीद जवानों के शरीर में बम प्लांट करने वाला डॉक्टर माओवादी विंग कमांडर समेत दो गिरफ्तार

लातेहार में बाघ, मनिका में महुआ चुनने गये दो और बरवाडीह में एक युवक पर किया हमला, रेफर

कौशल किशोर पांडेय/मनिका

युवक का गर्दन पकड़कर जमीन पर पटका, महिला पर पीछे से झपटा, ग्रामीणों के शोर मचाने पर भागा बाघ

लातेहार : मनिका प्रखंड के बड़काडीह पंचायत के कुमांडीह अमवाटीकर जंगल में शनिवार की सुबह करीब नौ बजे बाघ ने महुआ चुनने वाले दो लोगों को हमला कर जख्मी कर दिया। वहीं बरवाडीह के चुंगरू ग्राम में शुक्रवार को महुआ चुनने के दौरान में मैनेजर भुइयां को पीछे से बाघ ने हमला कर दिया। जिससे वह बुरी तरह से जख्मी हो गया है।

घायलों में अमवाटीकर गांव निवासी अरविंद उरांव और जोबला गांव निवासी धनपतिया देवी शामिल है। घायल अरविंद का प्राथमिक उपचार स्थानीय निजी क्लीनिक में किया गया। बाद में उसे बेहतर इलाज के लिए लातेहार भेज दिया गया।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मिली जानकारी के अनुसार अरविंद जंगल में अपने महुआ पेड़ के नीचे महुआ चुन रहा था। वह जब तक कुछ समझ पाता अचानक बाघ ने उसके गर्दन पर हमला कर दिया और गर्दन पकड़ कर जमीन पर पटक दिया। गर्दन से बलाबल खून बहने लगा। बहुत जोर जोर से चिल्लाने भी लगा। इसी बीच आसपास के महुआ पेड़ के नीचे महुआ चुन रहे लोग अरविंद की आवाज सुनकर टांगी, लाठी लेकर दौड़े। लोग जोर-जोर से चिल्लाकर कर ग्रामीणों को बुलाने लगे। दौड़ते हुए ग्रामीण जब तक अरविंद के महुआ पेड़ के नीचे पहुंचते तब तक बाघ उसे पटक कर गर्दन मुंह से दबाये गुर्रा रहा था।

प्राथमिक उपचार कर रहे दिलीप पाल ने बताया कि बाघ का दांत गर्दन में पूरी तरह धंस गया था। ग्रामीण मिट्ठू उरांव, बालेश्वर उरांव, चैतू उरांव समेत दर्जनों ने बताया कि लगभग 4 फीट का बाघ था। जब जोर जोर से हम लोग चिल्लाने लगे तब बाघ उसे छोड़कर भागा। जाते जाते दूसरे महुआ के नजदीक महुआ चुन रही धनपतिया देवी को भी बाघ ने पीछे से दबोच लिया। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गयी। पीठ पर आधे दर्जन से अधिक टांके लगे हैं।

ग्रामीणों ने बताया कि बाघ अभी भी जंगल के आस-पास ही मडरा रहा है। जान-माल को नुकसान पहुंचा सकता है। ग्रामीणों ने वन विभाग से बचाव की मांग की है। वही मुखिया धनलाल उरांव, समाजसेवी मनीष सिंह, मोहन ठाकुर ने वन विभाग से पीड़ित परिवार को मुआवजा दिलाने और उचित इलाज कराने की मांग की है। उन्होंने कहा कि बाघ से बचाव के लिए वन विभाग ग्रामीणों को सुविधा मुहैया कराये। बाघ के हमले के बाद आसपास के इलाकों में दहशत व्याप्त है। लोगों को घर से निकलना मुहाल हो गया है।

क्या कहते हैं रेंजर

उक्त संबंध में रेंजर संजय कुमार ने कहा कि नियमानुसार पीड़ित परिवार को सुविधा मुहैया करायी जायेगी।

इधर, पीटीआर के रेंजर शंकर पासवान ने बताया कि बरवाडीह के चुंगरू ग्राम में शुक्रवार को महुआ चुनने के दौरान में मैनेजर भुइयां को पीछे से बाघ ने हमला किया था। बाघ ने उसे जानवर समझ कर उस पर हमला किया। बाघ ने सिर्फ पंजा मारा है, जिसमें वह घायल हो गया है। उसका प्राथमिक उपचार कर एमएमसीएच मेदिनीनगर भेज दिया गया है। बाद में उसे रिम्स रेफर कर दिया गया। वन विभाग की देखरेख में उसका इलाज किया जा रहा है।

वन विभाग अलर्ट

क्षेत्र में बाघ के द्वारा इंसानों पर हमला किये जाने की खबर के बाद वन विभाग सतर्क हो गया है। अलग-अलग क्षेत्रों में वन विभाग की सात टीम बाघ को ढूंढ रही है। इस टीम में तकरीबन 40 वनकर्मी शामिल हैं। वन विभाग के द्वारा ग्रामीणों को सावधान रहने की अपील की जा रही है। अकेले एवं अंधेरे में जंगलों में नहीं जाने की सलाह दी जा रही है। इसे लेकर गांवों में माइकिंग की जा रही है और पर्चा का वितरण किया जा रहा है।

लातेहार बाघ हमला न्यूज