Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

झारखंड: स्वास्थ्य विभाग में 1900 पदों पर होगी नियुक्ति, मंत्री ने दिया प्रक्रिया शुरू करने का निर्देश

रांची : झारखंड स्वास्थ्य विभाग में शीघ्र ही विभिन्न श्रेणी में 1,900 पदों पर नियुक्ति होगी। विभागीय मंत्री बन्ना गुप्ता ने गुरुवार को विभागीय पदाधिकारियों की बैठक में इसे लेकर शीघ्र अन्य आवश्यक प्रक्रिया पूरी करने के निर्देश दिए हैं।

हाल ही में हुई कैबिनेट की बैठक में इन पदों पर नियुक्ति को लेकर नियमावली में संशोधन पर स्वीकृति मिली थी। अस्पतालों में नए पद भी स्वीकृत किए गए हैं। उनके अनुसार, मेडिकल कालेजाें में शिक्षा संवर्ग के 100 चिकित्सकों की भी शीघ्र नियुक्ति होगी।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मंत्री ने बैठक में पदाधिकारियों को रिम्स, रिनपास सहित अन्य मेडिकल कालेजों व अस्पतालों में व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश देते हुए कहा कि अस्पतालों में दवा व अन्य संसाधनों की कमी नहीं होनी चाहिए। बैठक में उन्होंने रिम्स के कार्डियोलाजी विभाग में चल रही गड़बड़ियां तथा मरीजों द्वारा लगाए गए आरोपों की जांच का आदेश विभागीय पदाधिकारियों को दिया। उन्होंने कहा कि कार्डियोलाजी विभाग से मरीजों को निजी अस्पतालों में भेजने की शिकायत मिली है। एक मरीज की पुष्टि भी हुई है। उन्होंने इसकी विस्तृत जांच कराकर रिपोर्ट देने को कहा।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

उनके अनुसार, इस मामले में विभागाध्यक्ष के क्रियाकलापों की भी जांच होगी कि आखिर वे इतने कमजोर और लचर क्यों हैं। मंत्री ने एनपीए ले रहे उन चिकित्सकों के विरुद्ध कार्रवाई के भी निर्देश दिए जो प्राइवेट प्रैक्टिस करते हैं। उन्होंने बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया से मांग की कि एम्स, देवघर का नाम राज्य के किसी शहीद महापुरुष के नाम पर रखा जाए ताकि यहां के शहीदों को सम्मान मिल सके। शीघ्र ही इसे लेकर विभाग से भी प्रस्ताव केंद्र को भेजा जाएगा।