Breaking :
||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत||लातेहार: बारियातू में पेड़ से लटका मिला महिला का शव, जांच में जुटी पुलिस||गुमला में TSPC के चार उग्रवादी गिरफ्तार, हथियार और जिंदा कारतूस समेत अन्य सामान बरामद||चतरा: नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम, दो सिलेंडर बम बरामद||मनी लॉन्ड्रिंग मामले में निलंबित मुख्य अभियंता वीरेंद्र राम की जमानत याचिका खारिज, पत्नी व पिता को भी नहीं मिली राहत||नहाय खाय के साथ सूर्योपासना का चार दिवसीय चैती छठ महापर्व शुरू||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में अनुपस्थित 56 मतदान कर्मियों को मिला आखिरी मौका, उपस्थित नहीं हुए तो होगी कार्रवाई
Sunday, April 14, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

संविदा पर नियुक्त कर्मियों के मामले में राज्य सरकार ने झारखंड हाई कोर्ट में रखा अपना पक्ष

रांची : झारखंड हाई कोर्ट के जस्टिस डॉ. एसएन पाठक की अदालत में गुरुवार को राज्य के संविदा कर्मियों और दैनिक वेतन भोगी कर्मियों की ओर से दायर 87 विभिन्न याचिकाओं पर सुनवाई हुई। इस मामले में राज्य सरकार की ओर से महाधिवक्ता राजीव रंजन पेश हुए। अगली सुनवाई अब 31 अगस्त को होगी।

याचिकाकर्ताओं में संविदा कर्मचारी और दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी शामिल हैं। उनकी ओर से कोर्ट को बताया गया कि वह 10 साल से अधिक समय से विभिन्न विभागों में संविदा या दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी के तौर पर काम कर रहे हैं। उनकी ओर से सुप्रीम कोर्ट के कई फैसलों समेत राज्य सरकार के नियम-कायदों का हवाला देते हुए कहा गया कि उनकी नियुक्ति नियमित की जाये।