Breaking :
||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश||पलामू: हार्डकोर इनामी माओवादी नीतेश के दस्ते का सक्रिय सदस्य गिरफ्तार||लातेहार: 65 हेली ड्रॉपिंग बूथ के लिए शुभकामनायें लेकर मतदान कर्मी रवाना
Monday, May 20, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

हेमंत सोरेन को लोकसभा में बलात्कारी कहे जाने का मामला झारखंड विधानसभा में गरमाया

रांची : झारखंड विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन मंगलवार को विपक्ष के साथ सत्ता पक्ष के विधायकों ने सदन में जमकर हंगामा किया। लोकसभा में सत्ता पक्ष के विधायकों ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को बलात्कारी कहे जाने के मुद्दे पर हंगामा किया और वेल में आकर नारेबाजी की।

सदन से निंदा प्रस्ताव पारित कर लोकसभा अध्यक्ष को भेजा जाय : प्रदीप यादव

सदन की कार्यवाही शुरू होते ही विधायक प्रदीप यादव ने सदन को जानकारी दी कि लोकसभा में झारखंड के एक सांसद ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को रेपिस्ट कहा है। झारखंड की जनता इसे कतई बर्दाश्त नहीं करेगी। वह स्वयं झूठा है। एक व्यक्ति जिसके अपने संबंध बहुत गंदे हैं और जिसकी शादी उसकी बहन से हुई है, वह मुख्यमंत्री पर आरोप लगाता है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होंने कहा कि इस मामले पर सदन से निंदा प्रस्ताव पारित कर लोकसभा अध्यक्ष को भेजा जाय। विधायक सुदिव्या सोनू ने भी अध्यक्ष से अनुरोध किया कि सदन से इस मामले पर निंदा प्रस्ताव लाकर लोकसभा अध्यक्ष को भेजा जाय। संसदीय कार्य मंत्री आलमगीर आलम ने भी सदन से निंदा प्रस्ताव पारित करने की मांग की। इस पर स्पीकर ने कहा कि आसन इसपर विधि सम्मत निर्णय लेगा।

गौरतलब है कि गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ निंदा प्रस्ताव लाने की मांग के पीछे का कारण यह था कि निशिकांत दुबे ने सोमवार को संसद में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पर अभद्र टिप्पणी की थी। निशिकांत दुबे की टिप्पणी पर हंगामे के कारण सदन को सवा घंटे के लिए स्थगित करना पड़ा।