Breaking :
||रांची में बाइक सवार बदमाशों ने पति-पत्नी को मारी गोली, दोनों की मौत||TSPC के जोनल कमांडर ने किया बड़ा खुलासा, झारखंड में हिंसा फैलाने के लिए खरीद रहा था विदेशी हथियार||भारत-इंग्लैंड टेस्ट मैच को लेकर बल्लेबाज शुबमन गिल ने पत्रकारों से कहा- रांची में ही सीरीज जीतने के लिए हम तैयार||पलामू: बच्चों को आशीर्वाद देने निकले किन्नरों से मारपीट, आक्रोश||झारखंड: प्रेमी ने शादी से किया इंकार तो प्रेमिका ने दे दी जान||गढ़वा: JJMP के उग्रवादियों ने पुल निर्माण स्थल पर मचाया उत्पात, मशीनों में की तोड़फोड़, मजदूरों से मारपीट||झारखंड विधानसभा का बजट सत्र 23 फरवरी से, स्पीकर ने की उच्च स्तरीय बैठक||विधायक भानु प्रताप शाही एससी-एसटी एक्ट में बरी, चार लोगों को छह-छह माह कारावास की सजा||रांची पहुंची भारत और इंग्लैंड की टीमें, पारंपरिक अंदाज में हुआ स्वागत||लातेहार: ईंट भट्ठा पर फायरिंग कर अपराधियों ने फैलायी दहशत, कर्मियों को पीटा, संचालक को दी चेतावनी
Thursday, February 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM

झारखंड स्थानीय नीति विधेयक-2022

रांची : झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के वरिष्ठ नेता सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि खतियान आधारित स्थानीयता विधेयक को फिर से राज्यपाल के पास भेजा जायेगा। उन्होंने राज्यपाल रमेश बैस के 1932 के खतियान आधारित लोकैलिटी बिल को सरकार को वापस करने के फैसले पर आपत्ति जतायी।

उन्होंने कहा कि यह भाजपा के इशारे पर हुआ है। सुप्रियो भट्टाचार्य सोमवार को हरमू स्थित पार्टी के केंद्रीय कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे. भट्टाचार्य ने भाजपा को ‘बाहरी जनता पार्टी’ करार दिया। झामुमो प्रवक्ता ने कहा कि यह बाहरी लोगों की साजिश है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

उन्होंने कहा कि 26 जनवरी को राज्यपाल ने मोरहाबादी में तिरंगा झंडा फहराया और इसे अपनी सरकार कहकर संबोधित किया। वहीं, राज्यपाल ने सरकार के प्रगतिशील निर्णय की जमकर सराहना की और राज्य सरकार को धन्यवाद दिया। इसके 72 घंटे के भीतर क्या होता है कि 1932 का खतियान आधारित स्थानीयता बिल वापस कर दिया जाता है।

उन्होंने कहा कि राज्यपाल ने जरूर किसी कानूनविद से राय ली होगी। साथ ही, राज्यपाल ने भी अध्ययन किया होगा। संवैधानिक प्रावधान संविधान का तीसरा भाग है, जिसमें अनुच्छेद 12 से 35 तक देश के मौलिक अधिकारों की व्याख्या करता है। कहीं किसी गलती के कारण उनकी सारी बातें नहीं पढ़ी गयीं।

भट्टाचार्य ने कहा कि अगर राज्य की जनता की सुरक्षा के लिए राजभवन काम नहीं करेगा तो पांचवीं अनुसूची में आने वाले राज्य के हिस्से की रक्षा कौन करेगा। उन्होंने कहा कि भारतीय संसद को 31बी का अनुपालन करते हुए इस विधेयक को पारित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि भाजपा खतियान जोहार यात्रा से डरी हुई है।

झारखंड स्थानीय नीति विधेयक-2022