Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

गुमला: मंगेतर ने सीने में छुरा घोंपकर युवती की बेरहमी से हत्या, पांच माह पूर्व हुई थी सगाई

गुमला : बसिया थाना क्षेत्र के सरुडा गांव में सोमवार को एक युवक ने अपनी ही मंगेतर की चाकू से बेरहमी से हत्या कर दी। घटना सोमवार शाम करीब चार बजे की है। मृतक जेनेविभा तिर्की सिमडेगा जिले के कुरडेग की रहने वाली है। मंगेतर की हत्या की इस सनसनीखेज घटना के बाद से इलाके में हड़कंप मच गया है। अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि अरविन्द ने अपने मंगेतर की हत्या क्यों की।

ह्त्या का कारण स्पष्ट नहीं

जेनेविभा सदर अस्पताल सिमडेगा में जीएनएम के पद पर कार्यरत थी। वह पिछले डेढ़ महीने से सरुडा निवासी अपने एक रिश्तेदार तीजन एक्का के घर में रह रही थी। जेनेविभा की करीब 5 महीने पहले रायडीह के सिकोई निवासी अरविंद कुजूर से सगाई हुई थी।

चाकू मारकर हुआ फरार

अरविन्द भी समय-समय पर जेनेविभा से मिलने सरुडा आता रहता था। सोमवार की शाम करीब 4 बजे अरविंद सरुडा आया और तीजन जैसे ही एक्का के घर में घुसा वह लगातार जेनेविभा के सीने में 20-25 चाकू मारकर फरार हो गया। बचाव के लिए चीख-पुकार की आवाज सुनकर तीजन एक्का पहुंचे। उसे बचाने के प्रयास में तीजन का हाथ भी कट गया।

पुलिस जांच में जुटी

घटना के तुरंत बाद जेनेविभा को स्थानीय लोगों की मदद से इलाज के लिए रेफरल अस्पताल बसिया लाया गया. जहां जांच के बाद डॉक्टरों ने जेनेविभा को मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना पर बसिया थाना प्रभारी छोटू राम रेफरल अस्पताल बसिया ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल गुमला भेज दिया और मामले की जांच कर रहे हैं।

छोटी-छोटी बात पर होता था झगड़ा

पारिवारिक सूत्रों के अनुसार अरविंद पहले भी छोटी-छोटी बातों को लेकर अपनी मंगेतर जेनेविभा से झगड़ता था। जेनेविभा सदर अस्पताल सिमडेगा में जीएनएम के पद पर कार्यरत थी। बचपन में जब उनके माता-पिता का निधन हो गया, तो उनका पालन-पोषण उसके बड़े चाचा ने किया और उन्हें जीएनएम की पढ़ाई भी करायी। घटना के बाद से परिवार के सदस्यों की हालत खराब है।