Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज
Sunday, June 16, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

गुमला: मंगेतर ने सीने में छुरा घोंपकर युवती की बेरहमी से हत्या, पांच माह पूर्व हुई थी सगाई

गुमला : बसिया थाना क्षेत्र के सरुडा गांव में सोमवार को एक युवक ने अपनी ही मंगेतर की चाकू से बेरहमी से हत्या कर दी। घटना सोमवार शाम करीब चार बजे की है। मृतक जेनेविभा तिर्की सिमडेगा जिले के कुरडेग की रहने वाली है। मंगेतर की हत्या की इस सनसनीखेज घटना के बाद से इलाके में हड़कंप मच गया है। अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि अरविन्द ने अपने मंगेतर की हत्या क्यों की।

ह्त्या का कारण स्पष्ट नहीं

जेनेविभा सदर अस्पताल सिमडेगा में जीएनएम के पद पर कार्यरत थी। वह पिछले डेढ़ महीने से सरुडा निवासी अपने एक रिश्तेदार तीजन एक्का के घर में रह रही थी। जेनेविभा की करीब 5 महीने पहले रायडीह के सिकोई निवासी अरविंद कुजूर से सगाई हुई थी।

चाकू मारकर हुआ फरार

अरविन्द भी समय-समय पर जेनेविभा से मिलने सरुडा आता रहता था। सोमवार की शाम करीब 4 बजे अरविंद सरुडा आया और तीजन जैसे ही एक्का के घर में घुसा वह लगातार जेनेविभा के सीने में 20-25 चाकू मारकर फरार हो गया। बचाव के लिए चीख-पुकार की आवाज सुनकर तीजन एक्का पहुंचे। उसे बचाने के प्रयास में तीजन का हाथ भी कट गया।

पुलिस जांच में जुटी

घटना के तुरंत बाद जेनेविभा को स्थानीय लोगों की मदद से इलाज के लिए रेफरल अस्पताल बसिया लाया गया. जहां जांच के बाद डॉक्टरों ने जेनेविभा को मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना पर बसिया थाना प्रभारी छोटू राम रेफरल अस्पताल बसिया ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल गुमला भेज दिया और मामले की जांच कर रहे हैं।

छोटी-छोटी बात पर होता था झगड़ा

पारिवारिक सूत्रों के अनुसार अरविंद पहले भी छोटी-छोटी बातों को लेकर अपनी मंगेतर जेनेविभा से झगड़ता था। जेनेविभा सदर अस्पताल सिमडेगा में जीएनएम के पद पर कार्यरत थी। बचपन में जब उनके माता-पिता का निधन हो गया, तो उनका पालन-पोषण उसके बड़े चाचा ने किया और उन्हें जीएनएम की पढ़ाई भी करायी। घटना के बाद से परिवार के सदस्यों की हालत खराब है।