Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Saturday, April 20, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

अकल्पनीय: मालिक की अंतिम यात्रा में शामिल हुआ बछड़ा, चिता की परिक्रमा कर रोया, देखें वीडियो

हजारीबाग : चौपारण के चैथी गांव में शनिवार को एक अकल्पनीय घटना घटी, जिसकी चर्चा चौपारण में दिन भर रही। दरअसल, चैथी गांव में एक बछड़ा अपने मालिक की मौत पर श्मशान घाट पहुंचा और न सिर्फ रोया, बल्कि अन्य लोगों के साथ चिता की परिक्रमा भी की, उसे चूमा और तब तक नहीं छोड़ा जब तक कि उसका शरीर पंचतत्व में विलीन नहीं हो गया।

आपको बता दें कि अचानक एक बछड़े को शव के पास आते देख लोगों ने पहले इसे हल्के में लिया और फिर डंडे से मारकर भगाने की कोशिश की। लेकिन, जब बछड़ा बार-बार शव के पास आने लगा तो सबकी आंखें फटी की फटी रह गईं। बड़ों के कहने पर जब उन्हें शव के पास जाने दिया गया तो उन्होंने शव को चूमा और रम्भाने लगा।

यह नजारा देख सभी की आंखें नम हो गईं और लोगों ने उन्हें मृतक मेवलाल के बेटे का नाम देकर दाह संस्कार में भी शामिल कर लिया। लोगों ने इस पूरी घटना को अपने कैमरे में कैद कर लिया और यह सोशल मीडिया पर वायरल हो गई।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

लोगों ने बताया कि मेवालालाल का शनिवार सुबह निधन हो गया था, उनके भाई-भतीजे ने भव्य तरीके से उनकी अंतिम यात्रा निकाली। वे हर्षोल्लास के साथ श्मशान घाट पहुंचे। बताया कि मेवालाल ने एक गाय पाल रखी थी, जिससे उसे एक बछड़ा हुआ था। वह बछड़े से बहुत प्यार करता था, लेकिन पैसे के अभाव में उसे तीन महीने पहले पास के पिपरा गांव में बेच दिया था।

लोग इसे चमत्कार बता रहे थे, बताया कि यह कैसे संभव है कि इसे तीन महीने पहले किसी दूसरे गांव में बेचा गया हो। यदि उसे अपने स्वामी की मृत्यु के बारे में पता चलता है और वह उसे देखने के लिए श्मशान घाट पर आता है, तो यह अपने आप में अकल्पनीय है। लेकिन, यह घटना दर्जनों लोगों के सामने हुई और लोग इसे भगवान की कृपा और बछड़े के बेटे के रूप में आने को कह रहे थे।

जब श्मशान घाट पर पहुंचे लोगों को बछड़े के बारे में पता चला तो लोगों ने उसे पानी से नहलाया। शांतिपूर्ण स्नान के बाद, बछड़ा दाह संस्कार में शामिल हुआ और फिर परिक्रमा के लिए चला गया।