Breaking :
||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला||पलामू: तत्कालीन एसपी के फर्जी हस्ताक्षर से बने 12 चरित्र प्रमाण पत्र, बड़ा गिरोह सक्रिय||ED की टीम फिर पहुंची आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के नौकर जहांगीर के घर||झारखंड: ज्वैलर्स शोरूम से दो लाख रुपये नकद समेत 50 लाख के आभूषण की लूट||निशिकांत दुबे के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत||लातेहार: चुनाव कार्य में लापरवाही बरतने वाले 9 कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत||जेठानी ने देवरानी पर लगाये गंभीर आरोप, कहा- कल्पना सोरेन के इशारे पर मेरी दोनों बेटियों को मारने की थी कोशिश||गढ़वा: JJMP जोनल कमांडर के नाम पर पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी को धमकी||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में फिर मारे गये सात नक्सली
Saturday, May 25, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरउत्तरी छोटानागपुरझारखंड

Jharkhand News: ‘जय श्रीराम’ बोलने पर छात्रों को मिली सजा, माफीनामा भी लिखवाया, रोष

विश्व हिंदू परिषद ने स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई की दी चेतावनी

बोकारो : झारखंड के बोकारो जिले में स्थित लोयला स्कूल में एक छात्र द्वारा जय श्री राम के नारे लगाने पर पूरी क्लास को सजा दी गयी। जय श्रीराम बोलने वाला यह छात्र दसवीं कक्षा में पढ़ता है। इस स्कूल को ईसाई मिशनरी चलाती है। यह घटना 5 अप्रैल को हुई थी। यह खुलासा विश्व हिंदू परिषद के धनबाद विभाग के मंत्री विनय कुमार ने बुधवार को किया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

विश्व हिंदू परिषद के नेता विनय कुमार ने जिला प्रशासन को स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की चेतावनी दी है। उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारी को पत्र लिखकर तत्काल जांच कराकर सख्त कार्रवाई की मांग की है। विनय कुमार के मुताबिक 5 अप्रैल को लोयला स्कूल में दसवीं की पढ़ाई चल रही थी। इस दौरान किसी बच्चे ने जय श्री राम कहा। शिक्षक ने तब सभी बच्चों को अगली चार पीरियड के लिए निलंबित कर दिया और उन्हें सजा के रूप में कक्षा से निकाल दिया। साथ ही पूरी क्लास को 6 अप्रैल तक के लिए सस्पेंड कर दिया।

कुछ अभिभावकों का कहना है कि कुछ बच्चों से जय श्री राम बोलने पर माफीनामा भी लिखवाया गया। मंगलवार को डायरी में शिकायत लिखकर अभिभावकों को स्कूल बुलाया गया। स्कूल पहुंचने पर प्रिंसिपल ने कुछ अभिभावकों को फटकार भी लगायी। इस पर प्राचार्य अलीशा मंजुनी ने सफाई दी है। उन्होंने पत्रकारों से कहा है कि अनुशासनहीनता और शिक्षक के आदेश की अवहेलना करने के आरोप में छात्रों को एक दिन के लिए सस्पेंड किया गया था। बच्चों को निलंबित नहीं किया गया था।