Breaking :
||रांची में बाइक सवार बदमाशों ने पति-पत्नी को मारी गोली, दोनों की मौत||TSPC के जोनल कमांडर ने किया बड़ा खुलासा, झारखंड में हिंसा फैलाने के लिए खरीद रहा था विदेशी हथियार||भारत-इंग्लैंड टेस्ट मैच को लेकर बल्लेबाज शुबमन गिल ने पत्रकारों से कहा- रांची में ही सीरीज जीतने के लिए हम तैयार||पलामू: बच्चों को आशीर्वाद देने निकले किन्नरों से मारपीट, आक्रोश||झारखंड: प्रेमी ने शादी से किया इंकार तो प्रेमिका ने दे दी जान||गढ़वा: JJMP के उग्रवादियों ने पुल निर्माण स्थल पर मचाया उत्पात, मशीनों में की तोड़फोड़, मजदूरों से मारपीट||झारखंड विधानसभा का बजट सत्र 23 फरवरी से, स्पीकर ने की उच्च स्तरीय बैठक||विधायक भानु प्रताप शाही एससी-एसटी एक्ट में बरी, चार लोगों को छह-छह माह कारावास की सजा||रांची पहुंची भारत और इंग्लैंड की टीमें, पारंपरिक अंदाज में हुआ स्वागत||लातेहार: ईंट भट्ठा पर फायरिंग कर अपराधियों ने फैलायी दहशत, कर्मियों को पीटा, संचालक को दी चेतावनी
Thursday, February 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहारहेरहंज

लातेहार: दस वर्षों से फरार माओवादी सबजोनल कमांडर के दस्ते का सदस्य बुधराम सिंह खरवार गिरफ्तार

नितीश यादव/हेरहंज

लातेहार : प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी का पूर्व वांक्षित दस्ता सदस्य बुधराम सिंह खरवार उर्फ बुटन सिंह पिता रामेश्वर सिंह ग्राम सासंग (हेरहंज) को हेरहंज पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

हेरहंज थाना प्रभारी शुभम कुमार ने बताया कि बुधराम सिंह खरवार उर्फ बुटन सिंह पहले नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के सबजोनल कमांडर लवकेश जी के दस्ते में काम कर चुका है। इसके खिलाफ विस्फोटक पदार्थ से विस्फोट कर हत्या के मामले में केस दर्ज था। इस पर परदेशी लोहरा पिता बिलोखन लोहरा (हेरहंज, बंदुआ) के हत्या का आरोप है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

थाना प्रभारी ने बताया कि वह दस साल से फरार था। इसके खिलाफ कोर्ट द्वारा कई बार सरेंडर करने के लिए नोटिस जारी किया गया था। एक माह पूर्व थाने द्वारा इश्तेहार भी चिपकाया गया था। इसके बावजूद उसने आत्मसमर्पण नहीं किया।

इसी बीच गुप्त सूचना पर पुलिस ने विशेष अभियान चलाकर गुरुवार की रात उसे उसके घर सासंग से गिरफ्तार कर लिया। इसके विरुद्ध हेरहंज थाना कांड संख्या 18/13 धारा 147, 48, 49, 302, 201 भादवि 3/4 विस्फोटक पदार्थ अधिनियम 17 सीएल एक्ट के तहत मामला दर्ज कर जेल भेज दिया गया।