Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

रिम्स ले जाने के क्रम में बीमार प्रवासी मजदूर की मौत, प्रशासन से मदद की गुहार

संजय राम/ बारियातू

लातेहार : बारियातू प्रखंड अंतर्गत अमरवाडीह पंचायत के मनातू निमवा टोंगरी निवासी प्रवासी मजदूर श्याम सुंदर लोहरा पिता मथुरा लोहरा की रिम्स रांची ले जाने के क्रम में रविवार की रात मौत हो गई।

मृतक मजदूर की पत्नी सोहरी देवी ने रोते हुए बताया कि मेरे पति छतीसगढ़ के कोरवा में हाइवा ट्रक चलाते थे। इससे बीच बीते एक सप्ताह पूर्व अचानक उनकी तबियत खराब हो गई। जिसके बाद एनसीएच छत्तीसगढ़ अस्पताल में भर्ती किया गया वंहा दो दिनों के इलाज के पश्चात बताया गया कि श्याम सुंदर का एक अंग बिल्कुल काम नही कर रहा है, उसे लकवा हो गया है।

जानकारी देते परिजन

फिर वंहा से किसी तरह पलामू जिले के सतबरवा में लकवे के इलाज के लिए लाइ। तब तक इनकी आवाज भी बंद हो गई थी। फिर परिजनों ने सलाह दिया कि बनासो विष्णुगढ़ हजारीबाग ले जाओ तब वंहा भी ले गया, लेकिन वंहा के चिकित्सक ने रिम्स रांची भेज दिया। फिर रिम्स रांची ले जाने के क्रम में रास्ते मे ही उसकी मौत हो गई।

अचानक हुई इस घटना से मृतक की पत्नी व नाबालिक पुत्र विक्की लोहरा(16) व सूरज लोहरा(14) सहित अन्य परिजनों का रोते रोते बुरा हाल है। मृतक की पत्नी ने प्रखंड प्रशासन से मदद की गुहार लगाई है।

गौरतलब रहे कि मृतक 1994 से ही छत्तीसगढ़ में दैनिक मजदूरी का काम करता था। बाद में हाइवा चलाने का काम करने लगा। 2003 में शादी होने के बाद 2008 से अपनी पत्नी के साथ कोरवा छत्तीसगढ़ में ही रह रहा था।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *