Breaking :
||कैबिनेट की बैठक में 40 प्रस्तावों को मिली मंजूरी, राज्य कर्मियों की पेंशन योजना में संशोधन, अब पांच हजार रुपये मिलेगा पोशाक भत्ता||पलामू: नाबालिग से दुष्कर्म के दोषी को 20 साल सश्रम कारावास की सजा||चतरा के पांच अफीम तस्कर हजारीबाग में गिरफ्तार||झारखंड में 4 IPS अफसरों का तबादला, लातेहार SP के पद पर बने रहेंगे अंजनी अंजन, 27 IPS अधिकारियों का मूवमेंट ऑडर जारी||बालूमाथ के चोरझरिया घाटी में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार की मौत||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार युवक की मौत समेत बालूमाथ की चार खबरें||झारखंड: आग लगने की सूचना पर ट्रेन से कूदे यात्री, झाझा-आसनसोल यात्रियों के ऊपर से गुजरी, 12 की मौत||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पहुंचीं रांची, सेंट्रल यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में हुईं शामिल, कहा- दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की राह पर भारत||झारखंड में बिजली हुई महंगी, नयी दरें एक मार्च से होंगी लागू||झारखंड में बड़े पैमाने पर BDO की ट्रांसफर-पोस्टिंग, यहां देखें पूरी लिस्ट
Friday, March 1, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में सीटी बजाओ-स्कूल बुलाओ महाअभियान शुरू, सोशल मीडिया पर छाया रहा #SeetiBajao

रांची : राज्य में स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति बढ़ाने के उद्देश्य से गुरुवार को सोशल मीडिया महाअभियान के साथ ही ‘सीटी बजाओ-स्कूल बुलाओ’ अभियान की शुरुआत हो गयी। राज्य के प्रत्येक जिले में अधिकारियों ने गांव-गांव जाकर अभियान की मॉनिटरिंग की। इस अभियान के पहले दिन राज्य के सभी 35,000 सरकारी स्कूलों के बच्चों ने सीटी बजाते हुए रैली निकाल कर सभी अभिभावकों से बच्चों को स्कूल भेजने की अपील की।

बच्चों के साथ स्कूल के प्रधानाध्यापक, शिक्षक, विद्यालय प्रबंधन समिति के सदस्य और क्षेत्र के बुद्धिजीवी भी इस अभियान में शामिल हुए। इस महाअभियान में राज्य के प्रत्येक जिले के उपायुक्त, जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला शिक्षा अधीक्षक, क्षेत्र शिक्षा पदाधिकारी, अनुमंडल शिक्षा पदाधिकारी, प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी, प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी, प्रखंड साधन सेवी, संकुल साधन सेवी, शिक्षक, छात्र छात्राये, अभिभावकों ने अपनी सक्रिय भागीदारी निभायी।

जिलास्तर पर एडीपीओ, ब्लॉक स्तर पर बीपीओ और संकुल स्तर पर सीआरपी को इस महाअभियान का नोडल पदाधिकारी बनाया गया है। इस राज्यस्तरीय अभियान की सफलता पर मुख्यमंत्री सह विभागीय मंत्री हेमंत सोरेन, स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के सचिव के रवि कुमार, राज्य शिक्षा परियोजना निदेशक किरण कुमारी पासी समेत अन्य सभी विभागीय पदाधिकारियों ने जिला प्रशासन एवं सभी शिक्षा पदाधिकारियों को बधाई दी है।

‘सीटी बजाओ, स्कूल बुलाओ’ अभियान की शुरुआत सोशल मीडिया महाअभियान से हुई। #SeetiBajao हैशटैग पर हजारों लोगों और विभिन्न पदाधिकारियों ने बच्चों की सीटी बजाते हुए स्कूल आने वाली तस्वीरों और वीडियो को पोस्ट करते हुए अपने अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल पर इस महाअभियान को अपना समर्थन दिया। विभिन्न सोशल मीडिया माध्यमों में सुबह 8.30 बजे से #SeetiBajao लिखते हुए तस्वीरें, वीडियो पोस्ट किये जाने लगे। दोपहर एक बजे तक एक्स (पूर्व में ट्विटर) में #SeetiBajao ट्रेंडिंग इन इंडिया में दिखना शुरू हो गया। एक्स के अलावा फेसबुक, इंस्टाग्राम और कू एप पर भी लोगो ने इस हैशटैग से हजारों पोस्ट डाले।

‘सीटी बजाओ, स्कूल बुलाओ’ अभियान के तहत प्रातः आठ बजे से राज्य के सभी सरकारी स्कूलों के द्वारा रैली निकाली गयी। इन रैलियों में स्कूली बच्चे पोस्टर, स्लोगन आदि के साथ सड़कों पर उतरे और लोगों को शिक्षा का महत्त्व समझाया। बच्चों ने सीटी बजाकर अपने अंदाज में स्थानीय लोगो से उनके बच्चों को स्कूल भेजने की अपील की। मुख्यमंत्री उत्कृष्ट विद्यालय, आदर्श विद्यालय, कस्तूरबा विद्यालय समेत सभी सरकारी स्कूलों के बच्चों ने रैली निकालकर स्कूलों में शत प्रतिशत उपस्थिति का संकल्प लिया।

रैली में स्कूली बच्चे आम लोगों को जागरूक करने के लिए प्रेरणा से भरे जोशीले नारों का इस्तेमाल कर रहे थे। इनमें “जन जन को जगाना है, हर बच्चे को स्कूल लाना है”, “हर सुबह, हर बच्चा, स्कूल में ही अच्छा” जैसे नारे शामिल थे। बच्चों की अपील का स्थानीय लोगो में भी असर दिख रहा था। वे भी अपने बच्चों को तैयार कर स्कूल के लिए भेज रहे थे।

सीटी बजाओ, स्कूल बुलाओ अभियान की सफलता पर स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के सचिव की रवि कुमार ने कहा कि शिक्षा एक प्रशासनिक विषय के साथ-साथ सामाजिक विषय भी है। इसलिए इसमें समाज की सहभागिता हमेशा महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। ड्रॉप आउट बच्चों को वापस स्कूल तक लाने के लिए चलाये गए इस अभियान की सफलता से हम सभी उत्साहित हैं। आगे भी सामाजिक सहभागिता से ऐसे अन्य कार्यक्रम चलाए जायेंगे। उन्होंने शिक्षा विभाग की पूरी टीम, अभिभावकों तथा छात्र-छात्राओं को इस अभिनव सहभागिता के लिए साधुवाद दिया।

अभियान की सफलता पर राज्य शिक्षा परियोजना निदेशक किरण कुमारी पासी ने कहा कि कम उपस्थिति, ड्राप आउट, आउट ऑफ स्कूल बच्चे शिक्षा को लेकर कम रुझान की एक बड़ी समस्या है। इसको ध्यान में रखते हुए यह आवश्यक था कि इन सबके लिए एक जनआंदोलन खड़ा किया जाय। क्योंकि, शिक्षा सबकी जिम्मेदारी है और इसमें सबकी भागीदारी होनी आवश्यक है। उन्होंने आम लोगो से अपील करते हुए कहा कि यह सुनिश्चित होना चाहिए कि हर सुबह, हर बच्चा, स्कूल में ही अच्छा। उन्होंने शिक्षा विभाग के सभी पदाधिकारियों, कर्मियों, शिक्षकों, छात्रों एवं उनके माता-पिता को आज के महाअभियान के लिए बधाई दी।

सीटी बजाओ, स्कूल बुलाओ अभियान सिमडेगा के सीटी बजाओ, उपस्थिति बढ़ाओ अभियान की तर्ज पर ही पूरे राज्य में शुरू किया गया है। इस अभियान के तहत प्रतिदिन प्रातः स्कूल में हाउस के कैप्टन और क्लास मॉनिटर सीटी बजाते हुए अपने गांव, कस्बो, टोलों के बच्चों को स्कूल चलने के लिए प्रेरित करते है। सीटी बजते ही बच्चे स्कूल जाने के लिए तैयार हो जाते है और अपने सहपाठी के साथ स्कूल जाते है।

इस अभियान से बच्चों के अभिभावक भी जागरूक हो रहे हैं। पहले बच्चों द्वारा गलत जानकारी या स्कूल बंद होने की जानकारी देकर स्कूल नहीं जाने का बहाना बनाया जाता था। अब सीटी बजते ही माता पिता यह समझ जाते हैं कि स्कूल खुला है और उन्हें अपने बच्चों को समय पर तैयार करके स्कूल भेजना है।

Jharkhand Seeti Bajao school mega campaign