Breaking :
||झारखंड में पांचवें चरण का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न, आचार संहिता उल्लंघन के सात मामले दर्ज||लातेहार में शांतिपूर्ण माहौल में मतदान संपन्न, 65.24 फीसदी वोटिंग||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश
Tuesday, May 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरलातेहार

जिम्मेदार नागरिक: रेल पटरी टूटा देख ग्रामीण ने गमछा दिखाकर चालक को किया खतरे का इशारा, रुकी मालगाड़ी, बड़ा हादसा टला

शशि शेखर/बरवाडीह

लातेहार : हर इंसान के अंदर एक मानवीय जिम्मेदारी होती है, बस जरूरत होती है तो उसे समझने की। ऐसे ही एक जिम्मेदार नागरिक हैं मंगरा पंचायत के कंचनपुर निवासी मोहन सिंह जिन्होंने सूझबूझ और मानवीय दायित्व का निर्वाहन करते हुए शनिवार सुबह करीब सात बजे सीआईसी सैक्सन के मांगरा और केचकी रेलवे स्टेशन के बीच एक बड़ी ट्रेन दुर्घटना को रोकने में अहम योगदान दिया।

मंगरा-केचकी रेलवे स्टेशन के कंचनपुर बस्ती के पास किलोमीटर 268/33- 25 के आप लाइन में पटरी टूटी हुई थी। जिसे वहां से गुजरने के क्रम में मोहन सिंह ने देख लिया और उसी समय उस रेल लाइन में एक मालगाड़ी आ रही थी। जिसे देख मोहन सिंह ने अपने गमछे को लहराते हुए चालाक को खतरे का इशारा कर मालगाड़ी को रोकने का प्रयास किया। मोहन सिंह के इशारे को समझ मालगाड़ी के चालक दल के द्वारा ट्रेन को रोक दिया गया। जिससे एक बड़ा हादसा होने से टल गया।

वहीं चालक दल ने इस घटना की जानकारी बरवाडीह स्टेशन प्रबंधक अनिल कुमार द्विवेदी व संबंधित विभाग के अधिकारियों को दी। जिसके बाद तत्काल रेलवे की टीम मौके पर पहुंचकर टूटे हुए पटरी को ठीक करने में जुट गई। लगभग दो घंटे बाद अप लाइन पर परिचालन सामान्य हुई।

घटना को लेकर ग्रामीण मोहन सिंह ने बताया कि वह शौच के लिए रेलवे ट्रैक के उस पार जा रहा था इसी क्रम में उसने रेल की पटरी को टूटा हुआ देखा। यह भी देखा कि उसी ट्रैक पर मालगाड़ी भी तेजी से आ रही है। जिसे देख तत्काल उसके द्वारा गमछा दिखाकर ट्रेन रुकवाने का प्रयास किया गया और ट्रेन रोक दी गई जिससे बड़ा हादसा होते-होते टल गया।

वही स्टेशन प्रबंधक अनिल कुमार द्विवेदी ने बताया कि ग्रामीण मोहन सिंह ने मानवता का परिचय दिया है जिसकी जितनी प्रशंसा की जाए कम है। इनकी चतुराई से एक बड़ा हादसा टल गया। उन्होंने आगे कहा कि मोहन सिंह जी को सम्मानित करने के लिए डीआरएम धनबाद को अनुरोध किया गया है, ताकि उनका मनोबल ऊंचा हो सके और समाज के हर व्यक्ति को प्रेरणा मिले।

सम्मानित हुए मोहन
शनिवार की सुबह मंगरा और केचकी की रेलवे स्टेशन के बीच एक बड़े हादसे को टालने में अहम योगदान निभाने वाले कंचनपुर गांव के मोहन सिंह को स्टेशन प्रबंधक अनिल कुमार द्विवेदी के द्वारा अपने कक्ष में बुलाकर सम्मानित किया गया। उन्होंने कहा कि मोहन सिंह के द्वारा किए गए कार्य काबिले तारीफ है और ऐसे कार्यों से सभी मानव को प्रेरणा लेनी चाहिए।

इस दौरान मौके पर सहायक स्टेशन प्रबंधक अरुण कुमार, पी बाखला समेत अन्य रेलकर्मी और अधिकारी मौजूद थे।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *