Breaking :
||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर

चतरा: माओवादी सैक सदस्य गौतम पासवान के दस्ते से हुई थी सुरक्षाबलों की मुठभेड़, भारी मात्रा में सामान बरामद

चतरा : चतरा-पलामू सीमा स्थित कुटिल-जोबिया जंगल में सोमवार को सर्च ऑपरेशन के दौरान सुरक्षाबल और नक्सलियों के बीच सीधी मुठभेड़ हुई। करीब दो घंटे तक चली मुठभेड़ में दोनों ओर से रूक-रूक कर फायरिंग होती रही। इस दौरान सुरक्षा बलों ने छह स्लिपिंग बैग, 10 तिरपाल, बहुत मात्रा में दवाई और इंजेक्शन, पिट्ठू बैग, रेडियो और दैनिक उपयोग के सामान बरामद किए।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

चतरा एसपी राकेश रंजन ने बताया कि सूचना मिली थी कि प्रतिबंधित भाकपा माओवादी संगठन के सैक सदस्य गौतम पासवान, रिजनल कमांडर नवीन यादव और 10 लाख के इनामी जोनल कमांडर मनोहर गंझू किसी बड़ी दुर्घटना को अंजाम देने के लिए 20 से 25 की संख्या में कुंदा और लावालौंग के जंगली क्षेत्र में एकत्रित हुए हैं।

सूचना के आधार पर एक टीम का गठन किया गया, जिसमें चतरा पुलिस, कोबरा 203, सीआरपीएफ 190/22 को शामिल किया गया। अभियान दल जैसे ही मरगड़हा जंगल पहुंचा, नक्सली फायरिंग करने लगे। पुलिस बल ने जवाबी कार्रवाई करते हुए फायरिंग की। भाकपा माओवादी जंगल का लाभ उठाकर भाग निकले। माओवादी कैंप को सुरक्षा बलोंं ने नष्ट कर दिया।

एसपी ने कहा कि सरकार ने राज्य को नक्सल मुक्त बनाने का संकल्प लिया है। इसके आधार पर नक्सलियों के खिलाफ लगातार चौतरफा कार्रवाई की जा रही है। इसके तहत पुलिस को नक्सली संगठन के खिलाफ लगातार सफलताएं मिल रही हैं। उन्होंने कहा कि नक्सली झारखंड पुलिस के आत्मसमर्पण एवं पुनर्वास नीति नयी दिशा का लाभ लेकर मुख्यधारा से जुड़े, अन्यथा कड़ी से कड़ी कार्रवाई के लिए तैयार रहें।

चतरा में नक्सली मुठभेड़