Breaking :
||लातेहार: लापरवाह वाहन चालक हो जायें सावधान! कल से पुलिस चलायेगी जिलेभर में सघन वाहन चेकिंग अभियान||झारखंड की नाबालिग लड़की के साथ अमानवीय व्यवहार करने वालों के खिलाफ मुख्यमंत्री ने दिये सख्त कार्रवाई के आदेश||लातेहार: बालूमाथ में ट्यूशन पढ़ाकर घर लौट रहे शिक्षक की सड़क दुर्घटना में मौत||हेमंत सरकार ने खिलाड़ियों के सर्वांगीण विकास को लेकर की जोहार खिलाड़ी स्पोर्ट्स इंटीग्रेटेड पोर्टल की शुरुआत, खिलाड़ियों की समस्याओं के निराकरण में होगा सहायक||रामगढ़, चतरा व लातेहार में कोयला कारोबारियों पर जानलेवा हमला करने वाले TSPC के चार उग्रवादी गिरफ्तार, एक लातेहार का||अब राज्य के सरकारी शिक्षकों को ‘लीव मैनेजमेंट मॉड्यूल’ के माध्यम से ही मिलेगी छुट्टी, अन्य माध्यमों से दिये गये आवेदन होंगे रद्द||लातेहार: बालूमाथ में हुई विवाहिता हत्याकांड का खुलासा, चार अभियुक्तों ने मिलकर की थी बेरहमी से हत्या||पलामू: शहर में बिना अनुमति के जुलूस निकालने पर होगी कार्रवाई, रात 10 बजे के बाद डीजे बजाने पर रोक||लातेहार: मवेशियों से लदा ट्रक दुर्घटनाग्रस्त, ग्रामीणों ने एक तस्कर को पकड़ कर किया पुलिस के हवाले, डाल्टनगंज से खरीद कर रांची के मांस कारोबारी को जा रहे थे पहुंचाने||प्रेमिका से वीडियो कॉल पर बात करते प्रेमी ने दे दी जान

सतबरवा प्रखंड उप प्रमुख ने थाना प्रभारी के खिलाफ हाईकोर्ट में की शिकायत, कोर्ट ने एक सप्ताह में मांगा जवाब

पलामू : जिले के सतबरवा प्रखंड के उप प्रमुख कामाख्या नारायण यादव ने थाना प्रभारी ऋषिकेश कुमार राय के खिलाफ झारखंड उच्च न्यायालय में प्रताड़ित करने, अवैध रूप से थाने में रखने और रिश्वत लेकर छोड़ने का मामला दर्ज कराया है।

पलामू की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

न्यायमूर्ति संजय कुमार द्विवेदी की एकल पीठ ने मामले में नोटिस जारी कर थाना प्रभारी को एक सप्ताह के भीतर जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है।

प्रखंड उप प्रमुख कामाख्या नारायण यादव ने कहा कि 3 नवंबर को एक पुराने मामले में मुझे 5-6 घंटे तक थाने में बैठाये रखा गया, जिस पर हाईकोर्ट ने मुझे 4 महीने का स्टे ऑर्डर दिया था। कोर्ट का आदेश दिखाने के बावजूद मुझे प्रताड़ित करने और मेरी प्रतिष्ठा खराब करने की नीयत से थाने में बैठाकर रखा गया और छोड़ने के एवज में 20 हजार रुपये लिए गये। इस घटना से आहत होकर मैंने उच्चाधिकारियों से शिकायत की, लेकिन कार्रवाई नहीं होने के कारण मैं 23 नवंबर को न्यायालय की शरण में गया।

उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधि होने के बावजूद अगर मेरे साथ ऐसा व्यवहार किया जाता है तो आम जनता, गरीब, असहाय, शोषितों के साथ कैसा पुलिसिया दमन होता, इसकी कल्पना की जा सकती है। कोर्ट ने मामले का संज्ञान लेते हुए 21 दिसंबर को थाना प्रभारी को नोटिस जारी कर एक सप्ताह में जवाब मांगा है। मुझे कोर्ट पर पूरा भरोसा है और उम्मीद है कि मुझे न्याय जरूर मिलेगा।