Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Saturday, June 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में अपेक्षाकृत कमजोर रहा मानसून, आसमान में बादलों और सूरज की चल रही लुकाछिपी

रांची समेत आसपास के जिलों में बारिश को लेकर येलो अलर्ट

रांची : राज्य में अब तक मानसून अपेक्षाकृत कमजोर रहा है। हालांकि मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले तीन दिनों में अच्छी बारिश हो सकती है। इसे लेकर मौसम विभाग ने राजधानी रांची समेत आसपास के जिलों में बारिश को लेकर येलो अलर्ट जारी किया है।

मौसम वैज्ञानिक अभिषेक आनंद ने बताया कि राज्य में मानसून कमजोर है। इसकी गतिविधि में कुछ बदलाव की संभावना है। आसमान में बादलों और सूरज की लुकाछिपी चल रही है। राजधानी रांची में बुधवार सुबह से धूप तो है लेकिन मौसम में उमस बनी हुई है। यह बारिश खेती के लिए तो अच्छी नहीं है, लेकिन उमस भरी गर्मी से राहत मिलेगी।

1 जून से 15 अगस्त तक राज्य में सामान्य बारिश 658.9 मिमी होती है। लेकिन इस बार सिर्फ 410.9 मिमी बारिश हुई है। वर्षा की कमी 38 प्रतिशत है। हालांकि, अगस्त की शुरुआत में अच्छी बारिश के कारण यह कमी थोड़ी कम होकर 37 फीसदी पर आ गयी, लेकिन बारिश फिर थमने के बाद यह बढ़कर 38 फीसदी पर पहुंच गयी। जिलों की बात करें तो केवल दो जिले ऐसे हैं जहां सामान्य बारिश दर्ज की गयी है। ये जिले हैं गोड्डा और साहिबगंज।

मौसम विभाग के आंकड़े बताते हैं कि रांची, धनबाद, बोकारो, रामगढ़ समेत राज्य के 20 जिले ऐसे हैं, जहां 20 फीसदी से ज्यादा और 60 फीसदी से कम बारिश हुई है। बाकी एक जिला है चतरा, जहां हालात ऐसे हैं कि 60 फीसदी से भी ज्यादा कम बारिश हुई है।