Breaking :
||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार में 23 फ़रवरी को लगेगा रोजगार मेला, विभिन्न पदों पर होगी बंम्पर भर्ती||अब सात मार्च तक न्यायिक हिरासत में रहेंगे पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन||पलामू में 16 वर्षीय किशोर का मिला शव, हत्या की आशंका, सड़क जाम
Saturday, February 24, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में अपेक्षाकृत कमजोर रहा मानसून, आसमान में बादलों और सूरज की चल रही लुकाछिपी

रांची समेत आसपास के जिलों में बारिश को लेकर येलो अलर्ट

रांची : राज्य में अब तक मानसून अपेक्षाकृत कमजोर रहा है। हालांकि मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले तीन दिनों में अच्छी बारिश हो सकती है। इसे लेकर मौसम विभाग ने राजधानी रांची समेत आसपास के जिलों में बारिश को लेकर येलो अलर्ट जारी किया है।

मौसम वैज्ञानिक अभिषेक आनंद ने बताया कि राज्य में मानसून कमजोर है। इसकी गतिविधि में कुछ बदलाव की संभावना है। आसमान में बादलों और सूरज की लुकाछिपी चल रही है। राजधानी रांची में बुधवार सुबह से धूप तो है लेकिन मौसम में उमस बनी हुई है। यह बारिश खेती के लिए तो अच्छी नहीं है, लेकिन उमस भरी गर्मी से राहत मिलेगी।

1 जून से 15 अगस्त तक राज्य में सामान्य बारिश 658.9 मिमी होती है। लेकिन इस बार सिर्फ 410.9 मिमी बारिश हुई है। वर्षा की कमी 38 प्रतिशत है। हालांकि, अगस्त की शुरुआत में अच्छी बारिश के कारण यह कमी थोड़ी कम होकर 37 फीसदी पर आ गयी, लेकिन बारिश फिर थमने के बाद यह बढ़कर 38 फीसदी पर पहुंच गयी। जिलों की बात करें तो केवल दो जिले ऐसे हैं जहां सामान्य बारिश दर्ज की गयी है। ये जिले हैं गोड्डा और साहिबगंज।

मौसम विभाग के आंकड़े बताते हैं कि रांची, धनबाद, बोकारो, रामगढ़ समेत राज्य के 20 जिले ऐसे हैं, जहां 20 फीसदी से ज्यादा और 60 फीसदी से कम बारिश हुई है। बाकी एक जिला है चतरा, जहां हालात ऐसे हैं कि 60 फीसदी से भी ज्यादा कम बारिश हुई है।