Breaking :
||लातेहार: बूढ़ा पहाड़ इलाके में नक्सलियों द्वारा छिपाये गये अत्याधुनिक हथियार व अन्य सामान बरामद||रांची हिंसा मामले में डीसी ने 11 आरोपियों पर मुकदमा चलाने की मांगी अनुमति||धनबाद आशीर्वाद टावर फायर मामले में हाई कोर्ट ने लिया स्वत: संज्ञान, सरकार से पूछा- अबतक क्या की गयी कार्रवाई||चाईबासा: IED ब्लास्ट में एक बार फिर तीन जवान घायल, एयरलिफ्ट कर लाया गया रांची||लातेहार: बालूमाथ में सड़क हादसे में घायल युवक की इलाज के दौरान मौत, 17 फरवरी को होनी थी शादी||तैयारी में जुटे छात्र ध्यान दें: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने एक दर्जन प्रतियोगी परीक्षाओं के विज्ञापन किये रद्द||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन

झारखंड कांग्रेस के पांच नेताओं को छह साल के लिए पार्टी से निकालने की सिफारिस

रांची : प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पांच नेताओं को छह साल के लिए पार्टी से निकालने की सिफारिश की गयी है। यह सिफारिश झारखंड प्रदेश कांग्रेस अनुशासन समिति ने की है। प्रभारी अविनाश पाण्डेय व प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर को सिफारिस की गयी है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

रविवार को पार्टी मुख्यालय में अनुशासन समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया, जिन लोगों को निष्कासित करने की सिफारिश की गयी है उनमें आलोक दुबे, लाल किशोर नाथ शाहदेव, राजेश गुप्ता, साधु शरण गोप, सुनील सिंह शामिल हैं। हालांकि इन नेताओं को निष्कासित करने का अंतिम फैसला अब प्रभारी और अध्यक्ष लेंगे।

बैठक के बाद समिति के अध्यक्ष बृजेंद्र सिंह ने कहा कि राज्य नेतृत्व के खिलाफ बयानबाजी और अनुशासनहीनता करने वाले सात नेताओं को 14 दिन पहले नोटिस भेजा गया था। उन्हें अपना पक्ष रखने का निर्देश दिया गया। रविवार को सातों नेताओं के जवाबों को लेकर बैठक हुई।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के दो सचिव राकेश तिवारी व अनिल कुमार ओझा ने अनुशासन समिति को जवाब भेजा, जिसे देखते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई समाप्त कर दी गयी। वहीं, अन्य पांच नेताओं ने अनुशासन समिति को कोई जवाब नहीं भेजा। इसे देखते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू की गयी है। जवाब नहीं देने वाले इन पांच नेताओं को अगले छह साल के लिए पार्टी से निकालने की सिफारिश की गयी है।