Breaking :
||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप
Sunday, February 25, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: पुष्पा सिन्हा 24 घंटे बाद भी नहीं जमा कर सकीं डिजनीलैंड मेले की राशि, दूसरे अधिक बोली लगाने वाले को टेंडर मिलना तय

पलामू : डालटनगंज के शिवाजी मैदान में लगने वाले डिजनीलैंड मेला का टेंडर बोली लगाने में दूसरे स्थान पर रहे पवन कुमार गुप्ता को मिलने की संभावना बन गयी है। टेंडर लेने वाली पुष्पा सिन्हा पति संजीव नयन ने 24 घंटे बीत जाने के बाद भी टेंडर राशि जमा नहीं करायी है। ऐसे में जिला प्रशासन परेशान है और जल्द ही दूसरे डाक वक्ता पर निर्णय ले लेने की स्थिति में है।

बुधवार को सदर एसडीओ कार्यालय में डिजनीलैंड मेला संचालन के लिए शिवाजी मैदान की नीलामी की प्रक्रिया पूरी की गयी थी, जिसमें 55 लाख 20 हजार की बोली लगाकर पुष्पा सिन्हा ने टेंडर लिया था। इसमें स्कूटिव मजिस्ट्रेट विक्रम आनन्द एवं एनडीसी पारितोष प्रियदर्शी शामिल हुए थे।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

नीलामी में 10 लोगों ने टेंडर डाला था, जिसमें तीन लोग अनुपस्थित थे, बाकी एक व्यक्ति के द्वारा ड्राफ्ट जमा नहीं किया गया था, जबकि एक व्यक्ति जितेंद्र अग्रवाल को जेल जाने के कारण थाना प्रभारी के आदेश के बाद टेंडर में बैठने नहीं दिया गया था। बाकी बचे पांच लोगों में से बोली पुष्पा सिन्हा की ओर से 55 लाख 20 हजार की उच्चतम बोली लगाकर टेंडर अपने नाम कर लिया गया था।

जिला नजारत सूत्रों के अनुसार ने गुरूवार शाम 6 बजे तक टेंडर की राशि जमा नहीं करायी गयी थी। नियमानुसार जिस समय टेंडर डाला जाता है, उसके तुरंत बाद सिक्यूरिटी मनी और उसके कुछ देर बाद उसी दिन कुल राशि जमा करनी होती है।

इधर, दूसरे स्थान पर रहे पवन कुमार ने पत्रकारों को बताया कि उच्चतम बोली लगाने वाली पुष्पा सिन्हा ने गुरूवार शाम तक टेंडर राशि जमा नहीं करायी है। ऐसे में नियमानुसार उसका टेंडर फाइनल होने की संभावना बन गयी है। लेटर बन गया है। एसडीओ का हस्ताक्षर होते ही पक्का निर्णय हो जायेगा।

एसडीओ कार्यालय के पत्र के अनुसार जिस व्यक्ति को टेंडर मिलता है, उसे कुल राशि 18 पर्सेंट जीएसटी के साथ उसकी दिन जमा करनी रहती है, जबकि नगर निगम को सफाई के नाम पर चार लाख रुपये जमा करने पड़ते हैं। यदि इनके द्वारा राशि जमा नहीं की जाती है तो द्वितीय बोली लगाने वाले को मौका दिया जाता है। नीलामी की न्यूनतम सुरक्षित राशि 28 लाख 40 हजार दो सौ रूपए निर्धारित थी।