Breaking :
||लातेहार: बूढ़ा पहाड़ इलाके में नक्सलियों द्वारा छिपाये गये अत्याधुनिक हथियार व अन्य सामान बरामद||रांची हिंसा मामले में डीसी ने 11 आरोपियों पर मुकदमा चलाने की मांगी अनुमति||धनबाद आशीर्वाद टावर फायर मामले में हाई कोर्ट ने लिया स्वत: संज्ञान, सरकार से पूछा- अबतक क्या की गयी कार्रवाई||चाईबासा: IED ब्लास्ट में एक बार फिर तीन जवान घायल, एयरलिफ्ट कर लाया गया रांची||लातेहार: बालूमाथ में सड़क हादसे में घायल युवक की इलाज के दौरान मौत, 17 फरवरी को होनी थी शादी||तैयारी में जुटे छात्र ध्यान दें: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने एक दर्जन प्रतियोगी परीक्षाओं के विज्ञापन किये रद्द||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन

सबक: कोडरमा डीसी आदित्य रंजन को राष्ट्रपति ने गोल्ड मेडल से किया सम्मानित, डिजिटल साक्षरता की दिशा में देशभर में उत्कृष्ट प्रदर्शन

कोडरमा : कोडरमा के उपायुक्त आदित्य रंजन को देश भर में डिजिटल साक्षरता की दिशा में उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए शनिवार को दिल्ली में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू द्वारा स्वर्ण पदक से सम्मानित किया गया। डिजिटल इंडिया अवार्ड के तहत कोडरमा को गोल्ड मेडल मिलने पर जिलेवासियों ने खुशी जाहिर की है।

डिजिटल साक्षरता को लेकर उपायुक्त आदित्य रंजन ने जिला ई-गवर्नेंस सोसायटी के माध्यम से 5 सितंबर 2021 को डीईजीएस कंप्यूटर बेसिक ट्रेनिंग प्रोजेक्ट की शुरुआत की। इस परियोजना को राष्ट्रीय स्तर पर डिजिटल इंडिया अवार्ड 2022 के लिए चुना गया था। इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने हाल ही में इसकी घोषणा की थी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

कोडरमा जिले में डिजीटल सेना के निर्माण एवं डिजीटल रूप से सशक्त समाज के निर्माण के उद्देश्य से उपायुक्त आदित्य रंजन ने सर्वप्रथम समाहरणालय परिसर में इसका शुभारंभ किया। इसके बाद कम्प्यूटर बेसिक शिक्षा के प्रति लोगों के बढ़ते उत्साह को देखते हुए जिले के सबसे दूरस्थ प्रखंड सतगावां सहित विभिन्न प्रखंडों में 8 कम्प्यूटर प्रशिक्षण केन्द्र चलाये जा रहे हैं।

इसमें सभी आयु वर्ग के लोगों को बुनियादी कंप्यूटर ज्ञान, उन्नत स्तर पर कंप्यूटर ज्ञान, हिंदी-अंग्रेजी टाइपिंग, साइबर सुरक्षा और सोशल मीडिया के उपयोग और दुरुपयोग, पावर प्वाइंट, एमएस एक्सेल, प्रोग्रामिंग भाषा सहित विभिन्न प्रकार के कौशल सिखाए जाएंगे। उन्नत सॉफ्ट कौशल। पाठ्यक्रम पढ़ाए जा रहे हैं।

जिला प्रशासन के आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2022 के दिसंबर तक 10 हजार लोगों को कम्प्यूटर बेसिक प्रशिक्षण दिया जा चुका है। इसके अलावा वर्ष 2022 में नवनिर्वाचित पंचायत के प्रतिनिधियों, जिला परिषद के सदस्यों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, सहायिकाओं व जिले के अन्य विभागों में कार्यरत कर्मियों को भी डिजिटल साक्षरता के तहत बुनियादी कम्प्यूटर प्रशिक्षण दिया गया। बुनियादी कंप्यूटर प्रशिक्षण पाठ्यक्रम पूरा होने के बाद जिला प्रशासन द्वारा परीक्षा देकर प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले छात्रों सहित अन्य सभी व्यक्तियों को प्रमाण पत्र भी दिया जा रहा है।