Breaking :
||रांची में बाइक सवार बदमाशों ने पति-पत्नी को मारी गोली, दोनों की मौत||TSPC के जोनल कमांडर ने किया बड़ा खुलासा, झारखंड में हिंसा फैलाने के लिए खरीद रहा था विदेशी हथियार||भारत-इंग्लैंड टेस्ट मैच को लेकर बल्लेबाज शुबमन गिल ने पत्रकारों से कहा- रांची में ही सीरीज जीतने के लिए हम तैयार||पलामू: बच्चों को आशीर्वाद देने निकले किन्नरों से मारपीट, आक्रोश||झारखंड: प्रेमी ने शादी से किया इंकार तो प्रेमिका ने दे दी जान||गढ़वा: JJMP के उग्रवादियों ने पुल निर्माण स्थल पर मचाया उत्पात, मशीनों में की तोड़फोड़, मजदूरों से मारपीट||झारखंड विधानसभा का बजट सत्र 23 फरवरी से, स्पीकर ने की उच्च स्तरीय बैठक||विधायक भानु प्रताप शाही एससी-एसटी एक्ट में बरी, चार लोगों को छह-छह माह कारावास की सजा||रांची पहुंची भारत और इंग्लैंड की टीमें, पारंपरिक अंदाज में हुआ स्वागत||लातेहार: ईंट भट्ठा पर फायरिंग कर अपराधियों ने फैलायी दहशत, कर्मियों को पीटा, संचालक को दी चेतावनी
Thursday, February 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में निजी स्कूलों की मनमानी पर लगाम लगाने की तैयारी, अब मान्यता के लिए पोर्टल पर ऑनलाइन करना होगा आवेदन

पुराने स्कूल को देना होगा यू डॉयस कोड, नये स्कूल स्वयं कर सकेंगे रजिस्ट्रेशन

रांची : झारखंड के निजी स्कूलों की मनमानी पर लगाम लगाने की तैयारी कर ली गयी है। स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग ने नि:शुल्क एवं अनिवार्य शिक्षा का अधिकार अधिनियम, 2009 के तहत निजी स्कूलों की मान्यता के लिए एक पोर्टल तैयार किया है। हालांकि, अभी तक इसका उपयोग नहीं हो पा रहा।। लेकिन विभाग के सचिव के रवि कुमार ने अब सभी उपायुक्तों और जिला शिक्षा अधीक्षकों को हर हाल में मान्यता के लिए ऑनलाइन व्यवस्था शुरू करने के निर्देश दिये हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

मान्यता के लिए ऑनलाइन कर सकेंगे आवेदन

नयी व्यवस्था के तहत निजी स्कूल संचालक आरटीई के तहत मान्यता के लिए www.rte.jharkhand.gov.in पर ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे। रजिस्ट्रेशन लिंक पोर्टल के दायीं ओर उपलब्ध है, जिसके माध्यम से वे अपना लॉगिन और पासवर्ड बनायेंगे। पुराने स्कूल को यू डोस कोड देना होगा जबकि नया स्कूल अपना रजिस्ट्रेशन करा सकेगा। सभी जरूरी जानकारी भरने और दस्तावेज अपलोड करने के बाद स्कूल का रजिस्ट्रेशन हो जायेगा। इसके बाद जिला शिक्षा अधीक्षक इस पोर्टल के माध्यम से समस्त सूचनाओं एवं दस्तावेजों की समीक्षा कर आवेदन को स्वीकृत या अस्वीकृत करेंगे।

इसे भी पढ़ें :- अगर आप पतरातू डैम घूमने का कर रहे हैं प्लान तो यह खबर आपके लिए है खास

भौतिक निरीक्षण के बाद ही फाइनल रिपोर्ट पोर्टल पर होगा अपलोड

इस बीच जिला शिक्षा अधीक्षक किसी अन्य कागज की भी मांग कर सकेंगे। सभी जानकारी व दस्तावेज सही पाये जाने के बाद जिला शिक्षा अधीक्षक विद्यालय के निरीक्षण की तिथि ऑनलाइन भरेंगे। स्कूल का भौतिक निरीक्षण करने के बाद वह अपनी फाइनल रिपोर्ट पोर्टल पर अपलोड करेंगे। आवेदन स्वीकार होने के बाद उपायुक्त के पास ऑनलाइन ही चला जायेगा।

आवेदन स्वीकार होने के बाद ऑनलाइन जारी किया जायेगा मान्यता प्रमाण पत्र

जिला स्थापना समिति की बैठक का समय उपायुक्त ऑनलाइन देंगे। जिला स्थापना समिति की बैठक के उपरान्त इसकी कार्यवाही का प्रतिवेदन स्वीकृत अथवा अस्वीकृत अभ्युक्तियों सहित पोर्टल पर अपलोड किया जायेगा। आवेदन स्वीकार होने के बाद आरटीई के तहत मान्यता प्रमाण पत्र ऑनलाइन जारी किया जायेगा, जिसे स्कूल डाउनलोड कर सकेंगे।

अभी तक 764 स्कूलों ने कराया है रजिस्ट्रेशन

अभी तक 764 स्कूलों ने आरटीई पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन कराया है। हालांकि मान्यता के लिए सिर्फ 89 स्कूलों ने आवेदन किया है। इनमें से अब तक केवल चार विद्यालयों को ही ऑनलाइन मान्यता प्रमाण पत्र मिल सका है।

मैनुअली आवेदन पर नहीं दी जायेगी मान्यता

सचिव ने कहा है कि निजी स्कूलों को किसी भी हाल में मैनुअली आवेदन पर मान्यता नहीं दी जायेगी। साथ ही समय पर ऑनलाइन प्रक्रिया पूरी नहीं करने वाले जिला शिक्षा अधीक्षक के खिलाफ भी कार्रवाई की जायेगी।

झारखंड निजी स्कूल मान्यता