Breaking :
||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री||JPSC पीटी के मॉडल आंसर को चुनौती देने वाली याचिका हाईकोर्ट में खारिज, परीक्षा का रास्ता साफ||लातेहार: सेरेगड़ा पंचायत सेवक अर्जुन राम रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||झारखंड में चार DSP की ट्रांसफर-पोस्टिंग, समीर कुमार सवैया बने किस्को के DSP||झारखंड कैबिनेट का फैसला, सरकार करायेगी जातिगत गणना, विधायकों का वेतन भत्ता बढ़ा, रिटायर्ड कर्मचारियों को भी मिलेगी प्रमोशन||झारखंड को नशामुक्त राज्य बनाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध, हर किसी की सहभागिता जरूरी : मुख्यमंत्री||वन भूमि से कब्जा हटाने गयी टीम पर ग्रामीणों का हमला, पत्थरबाजी में वन क्षेत्र पदाधिकारी समेत एक दर्जन घायल||झारखंड में इस तारीख को मानसून की एंट्री, बारिश और वज्रपात का अलर्ट||लातेहार: दो बाइकों की टक्कर में मामा-भांजा समेत चार घायल समेत बालूमाथ की दो खबरें||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, जांच में जुटी पुलिस
Thursday, June 20, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में निजी स्कूलों की मनमानी पर लगाम लगाने की तैयारी, अब मान्यता के लिए पोर्टल पर ऑनलाइन करना होगा आवेदन

पुराने स्कूल को देना होगा यू डॉयस कोड, नये स्कूल स्वयं कर सकेंगे रजिस्ट्रेशन

रांची : झारखंड के निजी स्कूलों की मनमानी पर लगाम लगाने की तैयारी कर ली गयी है। स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग ने नि:शुल्क एवं अनिवार्य शिक्षा का अधिकार अधिनियम, 2009 के तहत निजी स्कूलों की मान्यता के लिए एक पोर्टल तैयार किया है। हालांकि, अभी तक इसका उपयोग नहीं हो पा रहा।। लेकिन विभाग के सचिव के रवि कुमार ने अब सभी उपायुक्तों और जिला शिक्षा अधीक्षकों को हर हाल में मान्यता के लिए ऑनलाइन व्यवस्था शुरू करने के निर्देश दिये हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

मान्यता के लिए ऑनलाइन कर सकेंगे आवेदन

नयी व्यवस्था के तहत निजी स्कूल संचालक आरटीई के तहत मान्यता के लिए www.rte.jharkhand.gov.in पर ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे। रजिस्ट्रेशन लिंक पोर्टल के दायीं ओर उपलब्ध है, जिसके माध्यम से वे अपना लॉगिन और पासवर्ड बनायेंगे। पुराने स्कूल को यू डोस कोड देना होगा जबकि नया स्कूल अपना रजिस्ट्रेशन करा सकेगा। सभी जरूरी जानकारी भरने और दस्तावेज अपलोड करने के बाद स्कूल का रजिस्ट्रेशन हो जायेगा। इसके बाद जिला शिक्षा अधीक्षक इस पोर्टल के माध्यम से समस्त सूचनाओं एवं दस्तावेजों की समीक्षा कर आवेदन को स्वीकृत या अस्वीकृत करेंगे।

इसे भी पढ़ें :- अगर आप पतरातू डैम घूमने का कर रहे हैं प्लान तो यह खबर आपके लिए है खास

भौतिक निरीक्षण के बाद ही फाइनल रिपोर्ट पोर्टल पर होगा अपलोड

इस बीच जिला शिक्षा अधीक्षक किसी अन्य कागज की भी मांग कर सकेंगे। सभी जानकारी व दस्तावेज सही पाये जाने के बाद जिला शिक्षा अधीक्षक विद्यालय के निरीक्षण की तिथि ऑनलाइन भरेंगे। स्कूल का भौतिक निरीक्षण करने के बाद वह अपनी फाइनल रिपोर्ट पोर्टल पर अपलोड करेंगे। आवेदन स्वीकार होने के बाद उपायुक्त के पास ऑनलाइन ही चला जायेगा।

आवेदन स्वीकार होने के बाद ऑनलाइन जारी किया जायेगा मान्यता प्रमाण पत्र

जिला स्थापना समिति की बैठक का समय उपायुक्त ऑनलाइन देंगे। जिला स्थापना समिति की बैठक के उपरान्त इसकी कार्यवाही का प्रतिवेदन स्वीकृत अथवा अस्वीकृत अभ्युक्तियों सहित पोर्टल पर अपलोड किया जायेगा। आवेदन स्वीकार होने के बाद आरटीई के तहत मान्यता प्रमाण पत्र ऑनलाइन जारी किया जायेगा, जिसे स्कूल डाउनलोड कर सकेंगे।

अभी तक 764 स्कूलों ने कराया है रजिस्ट्रेशन

अभी तक 764 स्कूलों ने आरटीई पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन कराया है। हालांकि मान्यता के लिए सिर्फ 89 स्कूलों ने आवेदन किया है। इनमें से अब तक केवल चार विद्यालयों को ही ऑनलाइन मान्यता प्रमाण पत्र मिल सका है।

मैनुअली आवेदन पर नहीं दी जायेगी मान्यता

सचिव ने कहा है कि निजी स्कूलों को किसी भी हाल में मैनुअली आवेदन पर मान्यता नहीं दी जायेगी। साथ ही समय पर ऑनलाइन प्रक्रिया पूरी नहीं करने वाले जिला शिक्षा अधीक्षक के खिलाफ भी कार्रवाई की जायेगी।

झारखंड निजी स्कूल मान्यता