Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से एक बाइक सवार की मौत, दो की हालत गंभीर||लातेहार: माओवादियों की बड़ी साजिश नाकाम, बरवाडीह के जंगल से आठ आईईडी बम बरामद||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी
Tuesday, April 16, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहारहेरहंज

लातेहार: पलामू और चतरा के सीमावर्ती इलाकों में अफगान की तर्ज पर की गयी है अवैध पोस्ते की खेती

लातेहार : पोस्ता की अवैध खेती पर नियंत्रण के लिए केंद्र व राज्य सरकार द्वारा काफी प्रयास किये गये। लेकिन चतरा, पलामू व लातेहार जिले के सीमावर्ती क्षेत्र स्थित हेरहंज व बरियातू थाना क्षेत्र के पाडरम, आशुवे, महुआटांड़, सेमरखाड़, मसूरिया तरी, कुरांग, हेरनहोपा, लेवराही, जावाबार, बालूभांग समेत कई गांवों के जंगलों में इन दिनों भारी मात्रा में पोस्ते की अवैध खेती की गयी है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

सूत्रों की मानें तो सीमावर्ती इलाके में दो सौ एकड़ से अधिक में यह फसल उगायी गयी है। जिसे मिनी अफगानिस्तान कहा जा सकता है। वर्तमान में अफीम निकालने का काम जोरों पर चल रहा है। सूत्रों के मुताबिक, इस साल 2024 में जिस तरह से पोस्ते की खेती की गयी है, इसमें जब तक पुलिस का संरक्षण प्राप्त नहीं होगा, तब तक इतने बड़े पैमाने पर पोस्ते की खेती नहीं की जा सकती है। जो जांच का विषय है।

हालांकि इस अवैध कारोबार को लेकर कई बार मीडिया, अखबारों में खबर छपने के बाद भी प्रसाशन के द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाया जाना बड़ा सवाल खड़ा करता है। सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि एक तरफ जहां जिला प्रशासन से लेकर पुलिस प्रशासन तक इस अवैध खेती से जुड़े लोगों को खेती नहीं करने की हिदायत देते हुए सख्त कानूनी कार्रवाई की चेतावनी देते हैं। वहीं दूसरी तरफ इन दिनों बड़े पैमाने पर इस अवैध पोस्ते की फसल को चीरा लगाकर अफीम निकालने का काम जोरों पर चल रहा है। आस-पास के इलाकों के पुरुषों और महिलाओं को पैसे का लालच देकर इस कार्य के लिए कैम्प में रखा गया है। इनके द्वारा अफ़ीम निकालने का काम जोरों से चल रहा है।

Latehar Poppy Cultivation News