Breaking :
||झारखंड में पांचवें चरण का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न, आचार संहिता उल्लंघन के सात मामले दर्ज||लातेहार में शांतिपूर्ण माहौल में मतदान संपन्न, 65.24 फीसदी वोटिंग||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश
Tuesday, May 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामूपलामू प्रमंडल

खौफ का साम्राज्य खत्म, बूढ़ा पहाड़ पर मतदान कराकर लौटीं पोलिंग पार्टियां

पलामू : पलामू लोकसभा क्षेत्र में वोटिंग कराकर मतदानकर्मी अब मेदिनीनगर लौट रहे हैं। इसी कड़ी में डालटनगंज विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत बूढ़ा पहाड़ इलाके के आठ मतदान केंद्रों पर वोटिंग कराकर पोलिंग पार्टियां लौट गयी हैं। वायु सेना के विशेष हेलीकॉप्टर से सभी को वापस लाया गया।

Palamu Budha Pahad voting

चियांकी हवाई अड्डे पर हेलीकॉप्टर मतदानकर्मियों को लेकर उतरा। यहां से विभिन्न वाहनों में सवार होकर मतदानकर्मी जीएलए कालेज कॉउंटिंग सेंटर पहुंचे और वज्रगृह में ईवीएम को सील कराया। नक्सलियों के गढ़ रहे बूढ़ा पहाड़ से चुनाव कराकर लौटने पर मतदान कर्मियों के चेहरे पर खुशी के भाव देखे गये।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

वोटिंग करवा कर वापस लौटने वाले मतदान कर्मियों ने आज कहा कि इलाके में खौफ का साम्राज्य खत्म हो गया है। सुबह सात बजे से पहले ही लोग वोट देने के लिए लाइन में लग गये थे। मतदानकर्मियों ने कहा कि इलाके में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये थे और लोगों के चेहरे पर वोट देने की खुशी थी।

गौरतलब है कि बूढ़ा पहाड़ का इलाका कभी प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी का सबसे सेफ जोन हुआ करता था लेकिन सुरक्षाबलों की लगातार कार्रवाई से इलाके को नक्सलियों से मुक्त कराया गया और करीब तीन दशक बाद वहां आठ मतदान केंद्र बनाये गये और वोटिंग करायी गयी।

Palamu Budha Pahad voting