Breaking :
||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली

लोहरदगा: नक्सली कमांडर की निशानदेही पर कोरगो के जंगल में तीन दिन तक चले सर्च अभियान में पुलिस को मिली बड़ी सफलता

लोहरदगा: जिले के बगड़ू थाना क्षेत्र अंतर्गत कोरगो जंगल में नक्सलियों के खिलाफ पुलिस एवं सुरक्षा बलों के तीन दिन तक चले ऑपरेशन के दौरान भारी मात्रा में अत्याधुनिक हथियार और गोली का जखीरा बरामद हुआ। अभियान में शामिल सभी पुलिसकर्मियों को एसपी रामकुमार ने प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया।

एसपी रामकुमार ने शनिवार को प्रेस वार्ता में बताया कि लोहरदगा जिला के बगड़ू थाना अंतर्गत कोरगो जंगल में गुरुवार को 15 लाख के इनामी नक्सली रवींद्र गंझू के दस्ते के साथ हुई मुठभेड़ के बाद शुक्रवार और शनिवार को भी जंगल में सर्च अभियान चलाया गया। उन्होंने बताया कि इस दौरान सुरक्षा बल ने पुलिस के साथ मिलकर भारी मात्रा में अत्याधुनिक हथियार और गोली का जखीरा बरामद किया।

एसपी ने इस ऑपरेशन के खत्म होने के बाद नक्सलियों से मुख्यधारा में लौटने की अपील की। साथ ही नक्सली गतिविधियों में लिप्त लोगों को चेतावनी भी दी। उन्होंने कहा है कि नक्सली जल्द से जल्द सरेंडर कर दें अन्यथा वे मारे जाएंगे। साथ ही कहा कि गलत रास्ते पर चल पड़े लोग सरकार की सरेंडर नीति का लाभ उठायें और मुख्यधारा से जुड़ जायें। इसी में उनकी और उनके परिवार की भलाई है।

आपको बता दें कि पुलिस को कोरगो गांव और आसपास के जंगल में शीर्ष नक्सली 15 लाख के इनामी रवींद्र गंझू के दस्ते की गतिविधियों की सूचना मिली थी। इसके आधार पर संयुक्त रूप से सुरक्षा बलों ने सर्च ऑपरेशन शुरू किया। इसी क्रम में शुक्रवार को रवींद्र गंझू के दस्ते से सुरक्षा बलों की मुठभेड़ हुई। मुठभेड़ के बाद चलाये गये सर्च ऑपरेशन के दौरान सुरक्षा बलों ने दो नक्सलियों को गिरफ्तार कर लिया। जिसमें एक सब जोनल कमांडर की इलाज के दौरान मौत हो गयी थी।

दूसरे दिन गिरफ्तार नक्सली कमांडर गोविंद बिरिजिया की निशानदेही पर सर्च ऑपरेशन चलाया गया, जिसमें सुरक्षा बलों ने माओवादियों के ठिकाने से एक इंसास राइफल, एक एसएलआर, दो 303, एक सेमी ऑटोमेटिक राइफल एवं 500 से अधिक गोलियां बरामद की। इसके पहले 29 दिसंबर को 200 आईईडी, आईडी कोडेक्स वायर, हथियार, कारतूस, नक्सली कागजात, मोबाईल फोन, दवा एवं दो पिट्ठू दैनिक उपयोग की सामग्री के साथ बरामद किया गया था।