Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Sunday, April 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरचंदवापलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: सरकार के दावों की पोल खोलती तस्वीर, खाट पर पड़ी झारखंड की स्वास्थ्य व्यवस्था!

लातेहार : सीएम हेमंत सोरेन लगातार झारखंड के विकास को लेकर दावे करते नजर आते हैं। सीएम आये दिन कहते नजर आते हैं कि हम राज्य के हर जिले और हर गांव तक विकास पहुंचा रहे हैं। लेकिन आज भी कई गांव ऐसे हैं जो सरकार के दावों को खारिज करते नजर आते हैं। जहां ग्रामीणों को बुनियादी सुविधाएं भी मुहैया नहीं करायी गयी है। जो तस्वीर आप देख रहे हैं, यह झारखंड के लातेहार जिले के चंदवा प्रखंड अंतर्गत माल्हन पंचायत के दालचुंआ की है। स्वास्थ्य सेवा तो दूर, यहां पक्की सड़क तक नहीं है। जिसके कारण वहां एंबुलेंस नहीं पहुंच पाती है।

बुधवार को इस गांव के दीपक गंझू की गर्भवती पत्नी की तबीयत अचानक बिगड़ गयी। ऐसे में परिजनों को अस्पताल तक पहुंचने के लिए खाट का सहारा लेना पड़ा। एंबुलेंस नहीं मिलने पर परिजन मरीज को लेकर ढाई किलोमीटर तक पैदल चले। जिसके बाद उन्हें एंबुलेंस से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां उसका इलाज किया जा रहा है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस स्थिति को देख सामाजिक कार्यकर्ताओं ने व्यवस्था पर नाराजगी व्यक्त की है। वे कहते हैं कि आज भी कई गांव विकास से कोसों दूर है। पंचायत के मुखिया कहते हैं कि सड़क निर्माण के लिए विभाग को पत्र लिखा गया है, जल्द ही गांव में सड़क बनायी जायेगी।

हालांकि महिला की हालत खतरे से बाहर है। लेकिन कुछ भी हो सकता था। ऐसे में सोचने वाली बात यह है कि झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री आये दिन आधुनिक स्वास्थ्य सुविधाओं का फीता काटते नजर आते हैं। कहते हैं कि सरकार गांवों के विकास के लिए लगातार काम कर रही है। जबकि सीएम आपकी सरकार, आपके द्वार कार्यक्रम का आयोजन करते हैं। ऐसे में झारखंड की इस तस्वीर का सामने आना सरकार के दावों को झूठा साबित करता नजर आ रहा है।