Breaking :
||तैयारी में जुटे छात्र ध्यान दें: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने एक दर्जन प्रतियोगी परीक्षाओं के विज्ञापन किये रद्द||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन||हेमंत ने जमशेदपुर वासियों को दी सौगात, जुगसलाई ओवरब्रिज का किया उद्घाटन||जमशेदपुर-कोलकाता विमान सेवा का शुभारंभ, मुख्यमंत्री ने कहा- सभी जिलों को हवाई सेवा से जोड़ने की तैयार की जा रही कार्ययोजना||पलामू में हल्का कर्मचारी रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||पाकुड़: मूर्ति विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने जुलूस पर किया पथराव||हजारीबाग: पुआल में लगी आग, दो मासूम बच्चे जिंदा जले, पुलिस जांच में जुटी

मुख्यमंत्री हेमंत ने कहा- बिहार-यूपी के लोग साजिश के तहत झारखंडी हित में बनी नीतियों को ले जाते हैं न्यायालय

रांची : झारखंड विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन मंगलवार को सदन की कार्यवाही में भाग लेते हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि बिहार-यूपी की जनता झारखंडियों के हित में बनी नीतियों को साजिश के तहत कोर्ट तक ले जाती है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मुख्यमंत्री ने कहा कि कार्यमंत्रणा में राज्यपाल के यहां जाने पर चर्चा हुई थी। यह बैठक नियोजन नीति निरस्त होने के बाद होनी है। नियोजन नीति को तीसरी बार निरस्त किया गया है। रघुबर दास की सरकार में जो नीति बनी थी, उसे भी रद्द कर दिया गया था। कार्यपालिका द्वारा तीन बार बनायी गयी नीतियों को कोर्ट ने खारिज कर दिया है। यह दुर्भाग्य की बात है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

हेमंत सोरेन ने कहा कि हाई कोर्ट में एक आदिवासी युवक को आगे करके बाकी लोग जो यूपी और बिहार के हैं, कम्प्लेंनेट बन जाते हैं। यह एक साजिश है। इस साजिश को समझने की जरूरत है। इस समस्या से निपटने के लिए सदन द्वारा पारित स्थानीय नीति और आरक्षण विधेयक को 9वीं अनुसूची में जोड़ा जाना चाहिए। मैं इस संबंध में राज्यपाल से मिलने जा रहा हूं। मैंने सभी पार्टियों से संपर्क किया है। उन्होंने कहा कि अपील है कि झारखंड के हित में सभी विधायक राजभवन चलें।