Breaking :
||लातेहार: लापरवाह वाहन चालक हो जायें सावधान! कल से पुलिस चलायेगी जिलेभर में सघन वाहन चेकिंग अभियान||झारखंड की नाबालिग लड़की के साथ अमानवीय व्यवहार करने वालों के खिलाफ मुख्यमंत्री ने दिये सख्त कार्रवाई के आदेश||लातेहार: बालूमाथ में ट्यूशन पढ़ाकर घर लौट रहे शिक्षक की सड़क दुर्घटना में मौत||हेमंत सरकार ने खिलाड़ियों के सर्वांगीण विकास को लेकर की जोहार खिलाड़ी स्पोर्ट्स इंटीग्रेटेड पोर्टल की शुरुआत, खिलाड़ियों की समस्याओं के निराकरण में होगा सहायक||रामगढ़, चतरा व लातेहार में कोयला कारोबारियों पर जानलेवा हमला करने वाले TSPC के चार उग्रवादी गिरफ्तार, एक लातेहार का||अब राज्य के सरकारी शिक्षकों को ‘लीव मैनेजमेंट मॉड्यूल’ के माध्यम से ही मिलेगी छुट्टी, अन्य माध्यमों से दिये गये आवेदन होंगे रद्द||लातेहार: बालूमाथ में हुई विवाहिता हत्याकांड का खुलासा, चार अभियुक्तों ने मिलकर की थी बेरहमी से हत्या||पलामू: शहर में बिना अनुमति के जुलूस निकालने पर होगी कार्रवाई, रात 10 बजे के बाद डीजे बजाने पर रोक||लातेहार: मवेशियों से लदा ट्रक दुर्घटनाग्रस्त, ग्रामीणों ने एक तस्कर को पकड़ कर किया पुलिस के हवाले, डाल्टनगंज से खरीद कर रांची के मांस कारोबारी को जा रहे थे पहुंचाने||प्रेमिका से वीडियो कॉल पर बात करते प्रेमी ने दे दी जान

मनिका के 16 परहिया आदिम जनजाति समुदाय के लोगों को मिला वन भूमि का पट्टा

लातेहार : वन अधिकार अधिनियम 2008 के नियम 8 (J) के तहत मनिका प्रखंड के उच्चवाल (लंका) के 16 परहिया आदिम जनजाति समुदाय के लोगों को व्यक्तिगत वन भूमि का पट्टा दिया गया। जिला प्रशासन ने शुक्रवार को पट्टों का वितरण किया।

ग्राम प्रधान महावीर परहिया के नेतृत्व में करीब डेढ़ दशक से पट्टा पाने की लड़ाई लड़ी जा रही थी। 2005 से पहले बसे परिवारों को भी इस दौरान कई तरह से प्रताड़ित किया गया। उन पर जंगल को नष्ट करने का आरोप लगाया गया था। वनकर्मियों से मुकदमा चलाने की धमकियां मिलीं, लेकिन बहुत कम पढ़े-लिखे समुदाय के लोगों को अपने संविधान, अपने कानून पर पूरा भरोसा था। वह चट्टान की तरह अपने संघर्ष पर डटा रहा। आज सभी पट्टाधारक परिवार गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं, लेकिन थोड़ा निराश भी हैं।

हालांकि, विभागीय अधिकारियों ने वास्तविक दावा क्षेत्र में व्यापक कटौती की है, जो बड़े खेद का विषय है। जबकि सभी 16 दावेदारों ने कुल 56.33 एकड़ जमीन का दावा किया था, वहीं सिर्फ 7.03 एकड़ यानी सिर्फ 4 फीसदी क्षेत्र ही सभी लोगों को एक साथ बांटा गया है।

इसका जवाब देते हुए नेता महावीर परहिया ने कहा कि जिला प्रशासन ने हमारे साथ अन्याय किया है। हमारे दावों को बिना किसी कानूनी प्रावधान के काट दिया गया है। हम इस रकबे में कटौती की तरह अन्याय के खिलाफ अपना संघर्ष जारी रखेंगे। हम अपनी जमीन को किसी भी कीमत पर नहीं छोडेंगे।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *