Breaking :
||लातेहार: दो बाइकों की टक्कर में मामा-भांजा समेत चार घायल समेत बालूमाथ की दो खबरें||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, जांच में जुटी पुलिस||झारखंड कैबिनेट की बैठक 19 जून को, लिये जायेंगे कई अहम फैसले||रजरप्पा को विश्वस्तरीय धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में किया जाये विकसित, कार्ययोजना करें तैयार : मुख्यमंत्री||झारखंड में IPS अधिकारियों का ट्रांसफर-पोस्टिंग||पलामू में प्रतिबंधित मांस का टुकड़ा फेंके जाने से तनाव, इलाका पुलिस छावनी में तब्दील||JBKSS प्रमुख जयराम महतो ने की विधानसभा चुनाव में 55 सीटों पर लड़ने की घोषणा||मुठभेड़ में पांच नक्सलियों को मार गिराने वाली टीम को DGP ने किया सम्मानित, कहा- मुख्य धारा में लौटें, अन्यथा मारे जायेंगे||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम
Wednesday, June 19, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में भीषण गर्मी से लोग बेहाल, चमगादड़ों के मरने का सिलसिला जारी

Jharkhand Weather Heat Wave

रांची : राज्य भीषण गर्मी से तप रहा है। लू के थपेड़ों से लोग बेहाल हैं। तापमान में वृद्धि का रिकॉर्ड टूट रहा है। संथाल के जिलों को छोड़कर पूरा झारखंड तपिश भरी गर्मी और उष्ण लहर की चपेट में है। राज्य के उत्तर पश्चिमी जिले पलामू और गढ़वा में तो प्रचंड हीट वेव चल रहा है। रांची, चतरा, गुमला, रामगढ, लोहरदगा, बोकारो, पूर्वी सिंहभूम, पश्चिमी सिंहभूम और सरायकेला-खरसावां में भी हीट वेव का प्रभाव है।

चतरा जिले में गुरुवार को औरू गेरुआ गांव में लू लगने से तीन लोगों की मौत हो गयी जबकि कोबनी और भोंदल गांव में भी एक-एक व्यक्ति की लू लगने से मौत हुई है। पलामू में बुधवार तक चार लोगों की गर्मी से मौत हो गयी थी। गर्मी का प्रकोप इंसानों के साथ जीव जंतुओं पर भी देखा जा रहा है। राज्य में लगातार बड़ी संख्या में चमगादड़ों की मौत हो रही है। चतरा, गढ़वा और हजारीबाग में सैकड़ों चमगादड़ों की मौत के बाद अब लातेहार जिले में भी बड़ी संख्या में चमगादड़ों की मौत हो गयी है।

लातेहार जिले के मनिका प्रखंड अंतर्गत कोइली गांव में शुक्रवार की सुबह बड़ी संख्या में मृत चमगादड़ मिले। लातेहार डीएफओ रोशन कुमार ने एडवाइजरी जारी कर लोगों से मृत चमगादड़ों के पास न जाने की अपील की है। मृत चमगादड़ों के संपर्क में आने से लोग कई तरह की गंभीर बीमारियों के शिकार हो सकते हैं।

डीएफओ ने बताया कि चमगादड़ों की मौत की जांच की जा रही है। मृत चमगादड़ों के सैंपल जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि जो चमगादड़ मरे हैं, उनमें कोई संक्रमण हो सकता है। इसलिए उन्हें जलाकर नष्ट कर दिया जायेगा। डीएफओ ने आम ग्रामीणों से भी अपील की है कि भविष्य में ऐसी घटना होने पर वे तत्काल वन विभाग को सूचित करें। ग्रामीण ऐसी स्थिति में मृत पशु या पक्षियों के पास कभी न जायें और न ही उन्हें छूने की कोशिश करें।

Jharkhand Weather Heat Wave