Breaking :
||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री||JPSC पीटी के मॉडल आंसर को चुनौती देने वाली याचिका हाईकोर्ट में खारिज, परीक्षा का रास्ता साफ||लातेहार: सेरेगड़ा पंचायत सेवक अर्जुन राम रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||झारखंड में चार DSP की ट्रांसफर-पोस्टिंग, समीर कुमार सवैया बने किस्को के DSP||झारखंड कैबिनेट का फैसला, सरकार करायेगी जातिगत गणना, विधायकों का वेतन भत्ता बढ़ा, रिटायर्ड कर्मचारियों को भी मिलेगी प्रमोशन||झारखंड को नशामुक्त राज्य बनाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध, हर किसी की सहभागिता जरूरी : मुख्यमंत्री
Friday, June 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में नगर निकाय चुनाव का मार्ग प्रशस्त, राज्यपाल ने आरक्षण संशोधन विधेयक को दी मंजूरी

झारखंड नगर निकाय चुनाव – 2023

रांची : झारखंड के 49 नगर निकायों में चुनाव कराने का रास्ता साफ हो गया है। राज्यपाल रमेश बैस ने झारखंड सरकार द्वारा नगर निकायों में महापौर और अध्यक्ष पदों के लिए एकल आरक्षण के संबंध में विधानसभा में पारित संशोधन विधेयक को मंजूरी दे दी है।

राज्य सरकार ने पिछले साल ही नगर पालिका (संशोधन) विधेयक-2022 को राज्यपाल के पास मंजूरी के लिए भेजा था। माना जा रहा है कि राज्य सरकार द्वारा नया कानून अधिसूचित किये जाने के बाद चुनाव प्रक्रिया शुरू की जा सकती है। अगले अप्रैल-मई तक चुनाव होने की संभावना है।

नए नियमों के अनुसार अब राज्य सरकार संबंधित वर्ग की जनसंख्या के आधार पर नगर निगमों, नगर पालिकाओं और अन्य नगर निकायों में मेयर या अध्यक्ष पद के लिए एससी, एसटी, ओबीसी आरक्षण का निर्धारण कर सकेगी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

पहले आरक्षण को रोटेशनल आधार पर लागू करने का नियम लागू था। पिछले साल नवंबर माह में राज्य सरकार ने आरक्षण के पुराने नियम के अनुसार चुनाव कराने की तैयारी की थी, लेकिन इस पर विवाद होने के कारण चुनाव स्थगित कर दिया गया था।

राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा नगर निकाय विधेयक 2021 के आलोक में नवीन नियमों के अनुसार निर्वाचन हेतु प्रकाशित आरक्षण रोस्टर में अनुसूचित क्षेत्र के अनेक नगर निकायों में एकल पदों पर जनजातीय समुदायों (एस0टी0) के लिए आरक्षण को समाप्त कर दिया गया। इसे लेकर रांची समेत कई जगहों पर आदिवासी समाज के विरोध के स्वर उठने लगे।

इसी बीच इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में झारखंड की जनजातीय सलाहकार परिषद (टीएसी) की बैठक हुई, जिसमें राय बनी कि बहुसंख्यक आदिवासी आबादी वाले अनुसूचित क्षेत्रों में एसटी आरक्षण बरकरार रखा जाना चाहिए। इसके बाद सरकार ने संशोधन विधेयक को विधानसभा में पारित करवाकर राज्यपाल के पास भेज दिया गया था।

झारखंड नगर निकाय चुनाव – 2023