Breaking :
||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस
Saturday, June 15, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

पारा शिक्षकों को लगा तगड़ा झटका, झारखंड हाई कोर्ट ने खारिज की याचिका

रांची : झारखंड हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डॉ. रवि रंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की खंडपीठ ने टेट पास पारा शिक्षकों के समायोजन से जुड़े मामले में शुक्रवार को फैसला सुनाते हुए पारा शिक्षकों की याचिका को खारिज कर दिया है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

हाईकोर्ट के इस फैसले से पारा शिक्षकों को बड़ा झटका लगा है। दोनों पक्षों की सुनवाई पूरी होने के बाद कोर्ट ने पहले इस मामले में फैसला सुरक्षित रख लिया था।

पारा शिक्षकों के सहायक शिक्षक के रूप में वेतन व नियमितीकरण के मामले में याचिकाकर्ता सुनील कुमार यादव व अन्य की ओर से हाईकोर्ट में करीब 111 याचिकाएं दाखिल की गयी हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

याचिका में कहा गया है कि पारा शिक्षक 15 साल से अधिक समय से काम कर रहे हैं। वे शिक्षक पद के लिए योग्यता भी पूरी करते हैं। याचिका में की गयी मुख्य मांग यह है कि राज्य सरकार उनकी सेवा को स्थायी करे और उन्हें सहायक शिक्षक के पद पर समायोजित करे।