Breaking :
||पलामू में हल्का कर्मचारी रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||पाकुड़: मूर्ति विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने जुलूस पर किया पथराव||हजारीबाग: पुआल में लगी आग, दो मासूम बच्चे जिंदा जले, पुलिस जांच में जुटी||चाईबासा: PLFI के तीन उग्रवादी गिरफ्तार, AK-47 समेत अन्य हथियार बरामद||लातेहार में PLFI के दो उग्रवादी हथियार के साथ गिरफ्तार, ठेकेदारों को फोन पर देते थे धमकी||पलामू: JJMP के सब जोनल कमांडर ने किया सरेंडर, खोले कई चौंकाने वाले राज||लातेहार: अनियंत्रित बोलेरो ने खड़े ट्रक में मारी टक्कर, दो युवकों की मौत, चार की हालत नाजुक||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत

पलामू सिविल सर्जन 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार, बिल भुगतान के एवज में मांगी थी रिश्वत

अरुनीष सिंह/पलामू

पलामू : पलामू प्रमंडल भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने पलामू के सिविल सर्जन डॉ. जॉन एफ. कैनेडी को 50,000 रुपये की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है। सिविल सर्जन ने डेढ़ लाख के बिल भुगतान के एवज में एक लाख रुपये की रिश्वत की मांग की थी। इसके लिए 50 हजार रुपये की पहली किश्त रिश्वत के तौर पर ली जा रही थी। डॉ. कैनेडी को गिरफ्तार कर एसीबी कार्यालय लाया गया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेजा जाएगा।

पलामू की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि बिहार के औरंगाबाद न्यू एरिया निवासी गोल्डन कुमार पिता वकील कुमार सिंह ने अपने मोबाइल नंबर के माध्यम से एक आवेदन दिया था और बताया था कि उनकी संस्था रशियन हेल्थ केयर प्राइवेट लिमिटेड है। जिसका जिला स्वास्थ्य समिति पलामू की ओर से क्लिनिकल आउटरीच टीम (सीओटी) के लिए दो साल के लिए समझौता ज्ञापन (एमओयू) किया गया है।

संगठन का कार्य पलामू जिले के आवंटित सरकारी अस्पतालों में परिवार नियोजन संचालन करना है। संस्था द्वारा अब तक किये गये कार्यों की कुल राशि 1 लाख 47 हजार है। यह भी कहा गया कि डीक्यूएसी द्वारा मामले की जांच और सही पाए जाने के बाद उनके द्वारा संचालित परिवार नियोजन ऑपरेशन का 10 प्रतिशत नियमानुसार भुगतान किया जाना है।

भुगतान को लेकर गोल्डन कुमार जब जिला कार्यक्रम प्रबंधक दीपक कुमार गुप्ता से मिले तो डीपीएम ने बताया कि सिविल सर्जन डॉ. जॉन एफ. कैनेडी की ओर से कहा गया है कि एक लाख रुपये रिश्वत के तौर पर देने होंगे, उसके बाद ही अपनी जमा राशि जमा कराएं। बिल और भुगतान और समझौता ज्ञापन रद्द नहीं किया जाएगा। एमओयू की तिथि 6.5.2022 तक थी।

16 सितंबर को सुबह 9 बजे गोल्डन की मुलाकात डॉ. जॉन एफ. कैनेडी से हुई। सिविल सर्जन ने कहा कि एक लाख रुपये दो तो आपका बिल जमा हो जाएगा। साथ ही किए गए कार्यों की जांच के बाद बिल का भुगतान किया जाएगा और एमओयू से संबंधित नए आदेश जारी किए जाएंगे। यह आदेश दो साल तक भी नहीं बदला जाएगा। वादी रिश्वत देकर काम नहीं कराना चाहता था।

आवेदन के आलोक में एसीबी पलामू ने इसका सत्यापन किया और मामले को सही पाया। मामले में सिविल सर्जन डॉ. जॉन एफ. कैनेडी के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो, पलामू थाना मामला संख्या 10/2022 दिनांक 29.9.2022 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू की गयी थी। धावादल बनाकर आरोपी को डॉ. जॉन एफ. कैनेडी के उसके चर्च रोड स्थित आवास से 50 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार किया गया।