Breaking :
||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली

सुखाड़ को लेकर सरकार गंभीर, स्थिति का जायजा लेने सभी जिलों में भेजे गए अधिकारी

रांची : झारखंड के सभी 24 जिलों से सूखे की स्थिति का जायजा लेकर दो दर्जन अधिकारी अपनी रिपोर्ट सरकार को देंगे। कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग के सचिव ने अधिकारियों को 10 अगस्त तक पूरी रिपोर्ट देने के निर्देश के साथ तुरंत जाने को कहा है।

विभाग की ओर से एक वरिष्ठ अधिकारी को जिलों में भेजा गया है और उन्हें केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित प्रारूप पर रिपोर्ट देनी है। जिसके आधार पर राज्य सरकार विभिन्न जिलों में सूखे की स्थिति की घोषणा करेगी।

कृषि विभाग की ओर से जारी आदेश के अनुसार 1 जून से 3 अगस्त तक सामान्य बारिश (538.7 मिमी) के बजाय 282 मिमी बारिश हुई है, जो सामान्य से 48 प्रतिशत कम है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

यह भी बताया गया है कि पूर्वी सिंहभूम जिले में सामान्य बारिश हुई है, जबकि चतरा, गोड्डा, गढ़वा, जामताड़ा, पाकुड़ और साहेबगंज में स्थिति बहुत खराब है. विभाग की रिपोर्ट के अनुसार, 3 अगस्त तक फसल कवर 7.7 लाख हेक्टेयर (27.26 प्रतिशत) है, जबकि पिछले साल यह 65.48 प्रतिशत था।

पिछले दिनों मुख्य सचिव की अध्यक्षता में इस संदर्भ में एक उच्च स्तरीय बैठक के आलोक में अधिकारियों को फसल आच्छादन की स्थिति और किसानों को हो रहे फसल के नुकसान से अवगत कराने के लिए जिला स्तर पर अधिकारियों को भेजा जा रहा है जो मैन्यूअल फोर ड्राट मैनेजमेंट 2016 के तहत अपनी रिपोर्ट देंगे।

अधिकारी प्रतिनियुक्ति के बाद जिला में उपायुक्त से संपर्क कर विस्तृत रिपोर्ट तैयार करेंगे। अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वे प्रतिनियुक्त जिले के उपायुक्त से मिलकर अल्पवृष्टि से प्रभावित प्रखंड के गांवों का रैंडम चयन करेंगे और इन गांवों में फसलों पर पड़े प्रभाव से संबंधित रिपोर्ट निर्धारित फार्मेट में देंगे।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

कृषि सचिव ने विशेष सचिव राजेश सिंह को रांची जबकि कृषि निदेशक निशा उरांव को खूंटी की जिम्मेदारी दी है। निदेशक पशुपालन शशि प्रकाश झा को गढ़वा, सहकारिता पंजीयक मृत्युंजय कुमार बरनवाल को रामगढ़, मनोज कुमार को कोडरमा, अंजनी कुमार को हजारीबाग, प्रदीप कुमार हजारी को गोड्डा, गोपाल जी तिवारी को पूर्वी सिंहभूम, बिधान चंद्र चौधरी को लोहरदगा, राजकुमार गुप्ता को लातेहार, नयनतारा केरकेट्टा को गुमला, नवीन कुमार को पश्चिम सिंहभूम, एचएन द्विवेदी को देवघर, सुभाष सिंह को दुमका, संतोष कुमार को बोकारो, मुकेश कुमार सिन्हा को धनबाद, फणेंद्र नाथ त्रिपाठी को सरायकेला, अजेश्वर प्रसाद सिंह को पलामू असीम रंजन एक्का को सिमडेगा, डॉ. मनोज कुमार तिवारी को चतरा, जय प्रकाश शर्मा को जामताड़ा, कुमुद कुमार को साहेबगंज, राकेश कुमार सिंह को पाकुड़, मनोज कुमार को गिरिडीह भेजा गया है।