Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

अब झारखंड के प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने में स्थानीय युवाओं की मदद लेगी सरकार

रांची : झारखंड के 7 हजार प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने के लिए सरकार स्थानीय युवाओं की मदद लेगी। इन सभी विद्यालयों में एक शिक्षक के आधार पर कक्षा 1 से 5 तक संचालित की जाती है। जिससे बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। इससे संबंधित शिक्षा परियोजना ने सभी जिलों के डीईओ और डीएसई को पत्र लिखा है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

पत्र में कहा गया है कि प्रदेश के सात हजार एकल शिक्षक विद्यालयों में विद्यालय प्रबंधन समिति एवं शिक्षित युवाओं का सहयोग लिया जाए। ताकि कक्षा का संचालन बेहतर तरीके से हो सके। इसके लिए स्कूल प्रबंधन समिति जागरूकता अभियान चलाएगी।

यह व्यवस्था पूरी तरह से गैर वित्तीय होगी और स्कूल प्रबंधन समिति के सहयोग से चलाई जाएगी। जिलों को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि उच्च वर्ग के छात्र अपने से नीचे की कक्षा के बच्चों की पढ़ाई में मदद कर सकते हैं। इसके लिए स्कूल स्तर पर छात्रों की सूची तैयार करने को कहा गया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

यह संबंधित छात्र की सहमति पर आधारित होगा। ऐसे छात्रों को स्कूल स्तर पर सम्मानित करने और वार्षिक रिपोर्ट कार्ड में इसका उल्लेख करने को कहा गया है। कक्षा एक से पांच तक के छात्रों को कक्षा छह से आठ तक के छात्र और कक्षा छह से आठ के छात्रों को कक्षा नौ और दस के छात्रों द्वारा सहयोग किया जा सकता है।