Breaking :
||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन||हेमंत ने जमशेदपुर वासियों को दी सौगात, जुगसलाई ओवरब्रिज का किया उद्घाटन||जमशेदपुर-कोलकाता विमान सेवा का शुभारंभ, मुख्यमंत्री ने कहा- सभी जिलों को हवाई सेवा से जोड़ने की तैयार की जा रही कार्ययोजना||पलामू में हल्का कर्मचारी रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||पाकुड़: मूर्ति विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने जुलूस पर किया पथराव||हजारीबाग: पुआल में लगी आग, दो मासूम बच्चे जिंदा जले, पुलिस जांच में जुटी||चाईबासा: PLFI के तीन उग्रवादी गिरफ्तार, AK-47 समेत अन्य हथियार बरामद

अब शराब पीने से हुई मौत तो 5 से 10 लाख मुआवजा देगी सरकार, झारखंड उत्पाद विधेयक सदन से पारित

रांची : झारखंड उत्पाद संशोधन विधेयक 2022 आज विधानसभा में पारित हो गया। इस बिल पर माले विधायक बिनोद सिंह और लम्बोदर महतो ने सवाल उठाए और बिल को सेलेक्ट कमेटी को भेजने की मांग की। विनोद सिंह ने कहा, अवैध और मिलावटी शराब पीने से मरने वालों को कोर्ट से 5 से 10 लाख का मुआवजा मिलेगा, जो सही नहीं है। जो अधिकारी 20 लीटर से कम शराब बनाने वालों को अपने विवेक के अनुसार पकड़ लेते हैं, वे उस व्यक्ति को रिहा कर सकते हैं या जेल भेज सकते हैं। ऐसे में वे सौदेबाजी करेंगे। मेरी मांग है, न्यूनतम राशि तय करें।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

डॉ. लम्बोदर महतो ने पूर्ण शराबबंदी की मांग के लिए प्रवर समिति को भेजने का आग्रह किया। कहा कि शराब की दुकानों में काम करने वाले कर्मचारियों को 3 महीने से मानदेय नहीं मिला है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

प्रभारी मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि यह बिल शराब कारोबार से जुड़े बेगुनाह लोगों को बचाने के लिए लाया गया है। इस विधेयक के संशोधन से राज्य में शराब के अवैध निर्माण पर भी अंकुश लगेगा।