Breaking :
||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत
Sunday, April 14, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

अब राज्य के सरकारी शिक्षकों को ‘लीव मैनेजमेंट मॉड्यूल’ के माध्यम से ही मिलेगी छुट्टी, अन्य माध्यमों से दिये गये आवेदन होंगे रद्द

लीव मैनेजमेंट मॉड्यूल सिस्टम

रांची : प्रदेश के सरकारी स्कूलों में कार्यरत प्रधानाध्यापकों व शिक्षकों को लीव मैनेजमेंट मॉड्यूल के माध्यम से ही अवकाश मिलेगा। अन्य माध्यम से छुट्टी के आवेदन को अस्वीकार कर दिया जायेगा। यह आदेश मंगलवार देर रात स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के सचिव के रवि कुमार ने जारी किया है। इसकी जानकारी सभी जिला शिक्षा अधिकारियों व जिला शिक्षा अधीक्षकों को दे दी गयी है।

गौरतलब है कि लीव मैनेजमेंट मॉड्यूल सभी पदाधिकारियों, प्रधानाध्यापकों और शिक्षकों को अवकाश के लिए आवेदन जमा करने की अनुमति देता है। अवकाश पात्रता से संबंधित विवरण दिखाता है। अवकाश अनुरोधों के प्रसंस्करण और निपटान की अनुमति देता है। कर्मियों के अवकाश इतिहास का विस्तृत विवरण प्रदान करता है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

सचिव की ओर से जारी आदेश में लिखा गया है कि ई-वीवी एप्लीकेशन में लीव मैनेजमेंट मॉड्यूल को लाइव कर दिया गया है। सचिव ने निर्देश दिया है कि पत्र जारी होने की तिथि से प्रदेश के समस्त पदाधिकारियों, प्रधानाध्यापकों एवं शिक्षकों को लीव मैनेजमेंट माड्यूल के माध्यम से ही अवकाश हेतु आवेदन करना होगा। अन्य माध्यमों से प्रस्तुत अवकाश आवेदनों पर किसी भी परिस्थिति में विचार नहीं किया जायेगा, उन्हें अस्वीकृत कर दिया जायेगा।

सचिव ने लिखा है कि लीव मैनेजमेंट मॉड्यूल में राज्य के सभी पदाधिकारियों, प्रधानाध्यापकों और शिक्षकों के अवकाश विवरण दर्ज करने का प्रावधान है। छुट्टी प्रबंधन मॉड्यूल में उपलब्ध छुट्टी के विवरण को ध्यान में रखते हुए हर महीने वेतन का भुगतान किया जाना चाहिए। सचिव ने शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे अपने स्तर पर राज्य के सभी प्रधानाध्यापकों एवं शिक्षकों को इस सुविधा से परिचित होकर केवल लीव मैनेजमेंट मॉड्यूल के माध्यम से अवकाश हेतु आवेदन प्रस्तुत कर इसे अवकाश प्राप्त करने हेतु अपनाने के लिये निर्देशित करें।

लीव मैनेजमेंट मॉड्यूल सिस्टम