Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Sunday, April 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड: अब CID का होगा अपना थाना, डीजीपी ने जारी किया आदेश

रांची : अपराध अनुसंधान विभाग (सीआईडी) के पास अब अपना थाना होगा। इस संबंध में डीजीपी अजय कुमार सिंह ने आदेश जारी किया है। जारी आदेश में कहा गया है कि सीआईडी का नया थाना डोरंडा स्थित सीआईडी मुख्यालय में खुलेगा। इस थाने को राज्य स्तरीय थाना घोषित किया जाता है। इस थाना का क्षेत्राधिकार संपूर्ण झारखंड होगा। राज्य के विभिन्न जिलों में दर्ज मामलों को सीआईडी खुद के थाने में दर्ज करके अनुसंधान कर कार्रवाई करेगी। थाना खुलने के बाद सीआईडी को राज्य के किसी आपराधिक मामले में जीरो एफआइआर दर्ज करने का अधिकार होगा।

सीआईडी मुख्यालय ने सरकार से थाना खोलने की अनुमति लेने के लिए पुलिस मुख्यालय को एक प्रस्ताव तैयार कर भेजा था। इस प्रस्ताव पर डीजीपी अजय कुमार सिंह ने सहमति दे दी। राज्य में जिस तरह किसी भी मामले में दर्ज केस सीबीआई को ट्रांसफर होने के बाद वह खुद एफआइआर दर्ज कर अनुसंधान करती है, सीआईडी भी उसी तरह अनुसंधान करेगी। सीआईडी थाने में डीएसपी और इंस्पेक्टर स्तर के पुलिसकर्मी को ही प्रभारी बनाया जायेगा।

सीआईडी राज्य के किसी जिले में दर्ज केस को पुलिस से टेकओवर करती है। इसके बाद पुलिस द्वारा दर्ज केस और डायरी के आधार पर उसका अनुसंधान करती है। सीआईडी कोई नया केस दर्ज नहीं करती है। क्योंकि, सीआईडी के पास अपना थाना नहीं है। केस को टेकओवर करने का अधिकार सीआइडी के पास पहले से है। इसके अलावा पुलिस मुख्यालय या गृह विभाग के निर्देश पर सीआईडी किसी केस को पुलिस से टेकओवर कर उसका अनुसंधान करती है।