Breaking :
||गढ़वा: नहाने के दौरान डैम में डूबने से तीन मासूमों की मौत, गांव में मातम||JOB: झारखंड में सीडीपीओ के 64 पदों पर होगी भर्ती, जानिये डिटेल||लातेहार: पेड़ से गिरकर घायल युवक की रिम्स ले जाते समय रास्ते में मौत||बिरसा मुंडा की पुण्यतिथि पर मुख्यमंत्री ने दी श्रद्धांजलि, तस्वीरें||Good News: 12 जून से शुरू होगा बरकाकाना-वाराणसी BDM सवारी गाड़ी का परिचालन||लातेहार: जिले में 10 जून से 15 अक्टूबर तक बालू उठाव पर पूर्ण प्रतिबंध||आदिम जनजातियों के विकास बिना राज्य का विकास संभव नहीं : राज्यपाल||10 दिनों के अंदर झारखंड में प्रवेश करेगा मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी राहत||स्थानीय नीति के विरोध में 10 और 11 जून को झारखंड बंद का आह्वान||गुमला: रांची सेंट जेवियर्स स्कूल के प्रिंसिपल की अनियंत्रित कार ने कई लोगों को रौंदा, तीन महिला समेत चार की मौत, तस्वीरें

VIDEO: देखिए कैसे चंद सेकेंड में धराशायी हो गए नोएडा के मशहूर ट्विन टावर

नोएडा: नोएडा सेक्टर-93ए स्थित सुपरटेक एमराल्ड कोर्ट के ट्विन टावरों को दोपहर ठीक 2.30 बजे 3700 किलोग्राम विस्फोटक के विस्फोट के बाद जमींदोज कर दिया गया है। विस्फोट से पहले नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे पर यातायात पूरी तरह से ठप हो गया था। स्थानीय लोग ट्विन टावर को देखने के लिए एक्सप्रेस-वे पर थे। इसके अलावा नोएडा-ग्रेटर नोएडा हाईवे को भी बंद कर दिया गया।

Raja AD

वहीं आसपास के इलाकों के लोग ट्विन टावरों के ढहने को देखने के लिए अपने घरों की छतों पर चढ़ गए. ट्विन टावर्स गिरने से नोएडा से ग्रेनो में परी चौक तक का रास्ता बंद हो गया था। करीब आधे घंटे पहले इसके लिए सायरन भी बजाया गया, वहीं पुलिस ने ड्रोन उड़ाकर हकीकत भी चेक की।

नोएडा के सेक्टर 93ए स्थित सुपरटेक ट्विन टावर को ध्वस्त कर दिया गया है. 3700 किलोग्राम विस्फोटक का उपयोग करके इमारत को ध्वस्त कर दिया गया था। कुछ समय पहले तक कुतुब मीनार के ऊपर ट्विन टावर दिखाई देता था, जो अब मलबे में तब्दील हो गया है।

ट्विन टावर्स के ढहने के बाद धूल का एक जबरदस्त बादल उमड़ पड़ा। बताया जा रहा है कि करीब दो घंटे तक धूल का गुबार हवा में रहेगा। आसपास के लोगों को हटा लिया गया है। स्वास्थ्य आपातकाल को देखते हुए तीन अस्पतालों को भी अलर्ट पर रखा गया है।

Raja AD 2

सुपरटेक ट्विन टावर्स को गिराने में करीब 17.55 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। टावरों को गिराने का यह खर्च भी बिल्डर कंपनी सुपरटेक वहन करेगी। इन दोनों टावरों में कुल 950 फ्लैट बन चुके हैं और इन्हें बनाने में सुपरटेक ने 200 से 300 करोड़ रुपए खर्च किए थे।