Breaking :
||लातेहार: दो बाइकों की टक्कर में मामा-भांजा समेत चार घायल समेत बालूमाथ की दो खबरें||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, जांच में जुटी पुलिस||झारखंड कैबिनेट की बैठक 19 जून को, लिये जायेंगे कई अहम फैसले||रजरप्पा को विश्वस्तरीय धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में किया जाये विकसित, कार्ययोजना करें तैयार : मुख्यमंत्री||झारखंड में IPS अधिकारियों का ट्रांसफर-पोस्टिंग||पलामू में प्रतिबंधित मांस का टुकड़ा फेंके जाने से तनाव, इलाका पुलिस छावनी में तब्दील||JBKSS प्रमुख जयराम महतो ने की विधानसभा चुनाव में 55 सीटों पर लड़ने की घोषणा||मुठभेड़ में पांच नक्सलियों को मार गिराने वाली टीम को DGP ने किया सम्मानित, कहा- मुख्य धारा में लौटें, अन्यथा मारे जायेंगे||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम
Wednesday, June 19, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

लगातार चौथी बार जीतने वाले एक मात्र सांसद बने निशिकांत दुबे, बनाय नया रिकॉर्ड

रांची : झारखंड में भले ही भाजपा को तीन सीटों का नुकसान हुआ हो लेकिन कई रिकॉर्ड भी बने हैं। गोड्डा लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी और तीन बार से सांसद निशिकांत दुबे ने जीत हासिल कर एक नया रिकॉर्ड बनाया है। निशिकांत झारखंड गठन के बाद लगातार चार बार संसदीय चुनाव जीतने वाले एकमात्र सांसद बन गये हैं। इसके अलावा जमशेदपुर और पलामू में भी भाजपा ने हैट्रिक लगायी है।

झारखंड की गोड्डा लोकसभा सीट पर भाजपा का दबदबा है। यह सीट साल 1962 में अस्तित्व में आयी थी। हालांकि, तब झारखंड राज्य अलग नहीं बना था। बंटवारे के बाद इस सीट पर पांच लोकसभा चुनाव हुए हैं। वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के टिकट पर निशिकांत दुबे ने जीत की हैट्रिक लगायी थी। वे यहां से 2009 और 2014 में सांसद चुने गये थे।

इस सीट पर संयुक्त बिहार में पहला चुनाव 1962 में हुआ था। इसमें कांग्रेस से प्रभुदयाल हिम्मत सिंह ने जीत दर्ज की थी। वर्ष 1967 में भी प्रभु दयाल सांसद चुने गये। वहीं, 1971 में कांग्रेस ने यहां फिर जीत हासिल की और जगदीश मंडल सांसद निर्वाचित हुए। हालांकि, 1977 में कांग्रेस हार गयी और भारतीय लोकदल के जगदंबी प्रसाद यादव यहां से जीते। इसके बाद 1980 के चुनाव में कांग्रेस ने फिर इस सीट पर कब्जा कर लिया। इस बार यहां से समीनउद्दीन सांसद चुने गये। वर्ष 1984 में यहां से कांग्रेस के शमीमुद्दीन सांसद बने।

वर्ष 1989 के लोकसभा चुनाव में पहली बार इस सीट पर भाजपा ने जीत दर्ज की और जनार्दन यादव सांसद बने। हालांकि, 1991 में झारखंड मुक्ति मोर्चा ने गोड्डा सीट पर जीत दर्ज की। वर्ष 1996 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने यहां से जीत दर्ज की। इस चुनाव में जगदंबी प्रसाद यादव ने जीत दर्ज की। वहीं, 1998 में भाजपा ने फिर वापसी की। इस उपचुनाव में जगदंबी प्रसाद यादव फिर से सांसद बने। इसके बाद 1999 में जगदंबी प्रसाद यादव ने जीत की हैट्रिक लगायी।

इस सीट पर 2004 का लोकसभा चुनाव झारखंड राज्य बनने के बाद हुआ। इस चुनाव में कांग्रेस के फुरकान अंसारी ने जीत दर्ज की थी। वर्ष 2009 में भाजपा ने फिर वापसी की और डॉ. निशिकांत दुबे जीतकर लोकसभा पहुंचे।

Godda MP Nishikant Dubey