Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Wednesday, May 29, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

माओवादी प्रशांत बोस समेत नौ नक्सलियों पर चलेगा देशद्रोह का मुकदमा, सरकार ने दी इजाजत

रांची : राज्य सरकार ने झारखंड में नौ माओवादियों पर देशद्रोह का मुकदमा चलाने की अनुमति दे दी है। जांच रिपोर्ट व पुलिस की संस्तुति के आधार पर सरकार से मुकदमा चलाने की अनुमति प्राप्त हुई है। यह केस भाकपा माओवादी नक्सली संगठन के पोलित ब्यूरो सदस्य के पद पर रहे प्रशांत बोस समेत नौ नक्सलियों पर चलेगा।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

अन्य नक्सलियों में सरायकेला-खरसावां के दारूदा निवासी महाराज प्रमाणिक उर्फ राज, गिरिडीह जिले के पीरटांड़ निवासी सेंट्रल कमेटी के नक्सली पति राम मांझी उर्फ अनल उर्फ रमेश, तमाड़ थाना क्षेत्र के तमराना निवासी अमित मुंडा उर्फ चुका मुंडा, खूंटी जिले के रनिया थाना क्षेत्र निवासी जीवन कंडुलना, अड़की थाना क्षेत्र के हरदलामा निवासी प्रभात मुंडा उर्फ मुखिया, विमल लोहरा उर्फ निलेश लोहरा, कुचाई थाना क्षेत्र के जमबीरा निवासी नेल्सन कंडीर और सुलेमान कंडीर शामिल हैं।

गौरतलब है कि नक्सलियों के खिलाफ 16 दिसंबर 2018 को टोकलो थाने में देश विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का मामला दर्ज किया गया था। पुलिस को सूचना मिली थी कि संबंधित नक्सली थाना क्षेत्र के एक नक्सल प्रभावित क्षेत्र में देश विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए जमा हो रहे हैं। मामला दर्ज करने के बाद जब पुलिस ने जांच शुरू की तो पुलिस ने आरोप को सही पाया।