Breaking :
||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता का इंडी गठबंधन पर हमला, कहा- कोड वर्ड के जरिये बेच दिया झारखंड को||टेंडर कमीशन देने में पांकी के ठेकेदार का भी नाम : शशिभूषण मेहता||टेंडर घोटाले की जांच में पूर्व मंत्री आलमगीर आलम नहीं कर रहे सहयोग : ED||पांचवें चरण में 63.21 फीसदी वोटिंग, पुरुषों से ज्यादा रही महिलाओं की भागीदारी||गढ़वा: शादी समारोह में शामिल होने जा रही मां-बेटी की सड़क हादसे में मौत, बेटा और बेटी की हालत नाजुक||झारखंड: स्कूलों में शत प्रतिशत नामांकन को लेकर राज्य शिक्षा परियोजना गंभीर, लापरवाही बरतने पर होगी कार्रवाई||टेंडर कमीशन घोटाला मामला: ED ने अब IAS मनीष रंजन को पूछताछ के लिए बुलाया||मतदान केंद्र में फोटो या वीडियो लेना अपराध, की जा रही है कार्रवाई : मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी||लातेहार: बालूमाथ में बाइक दुर्घटना में एक युवक की मौत, दूसरा गंभीर, रिम्स रेफर||गढवा: डोभा में नहाने के दौरान डूबने से JJM नेता के पोते समेत दो किशोरों की मौत
Wednesday, May 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

लोहरदगा में नौ और लातेहार के पांच स्थानों पर NIA ने की छापेमारी, चकला से एक संदिग्ध गिरफ्तार, हथियार समेत आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त

रांची : राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने लोहरदगा में नौ और लातेहार में पांच जगहों पर छापेमारी की है। इस दौरान एनआईए ने एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया और हथियार व गोला-बारूद भी बरामद किया। एनआईए के आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को बताया कि एनआईए बुलबुल जंगल में हथियारों की बरामदगी मामले की जांच कर रही है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मामले की जांच के बाद एनआईए ने पाया कि भाकपा माओवादी के सक्रिय कैडरों के साथ रिजनल कमांडर रवींद्र गंझू ने एक आपराधिक साजिश रची थी। साथ ही सुरक्षा बलों पर हमला करने के लिए बुलबुल के जंगल में इकट्ठा हुए थे। एनआईए ने आश्रय देने वाले धन मुहैया कराने और हथियारों के लिए कोरियर के रूप में काम करने वाले समर्थकों की तलाश में लोहरदगा में नौ स्थानों, लातेहार के पांच स्थानों पर छापेमारी की। छापेमारी के दौरान, वित्तीय लेनदेन और संपत्ति से संबंधित कागजात, एक देशी पिस्तौल के साथ छह जिंदा राउंड, एक मैगजीन, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स और आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त किए गए।

साथ ही चकला (चंदवा, लातेहार) के रहने वाले साजन कुमार नाम के एक संदिग्ध को लोहरदगा से गिरफ्तार किया है। वह राजू कुमार उर्फ राजू साव के राजू ब्रिक्स नाम के ईंट भट्ठे पर मुंशी के रूप में काम करता था। राजू कथित तौर पर माओवादी रवींद्र गंझू की ओर से लेवी के पैसे को इन्वेस्ट करता है, जो अभी फरार चल रहा है। मामले को एनआईए के टेकओवर किया है। इससे पहले झारखंड पुलिस ने 18 जून को आईपीसी, शस्त्र अधिनियम, विस्फोटक पदार्थ अधिनियम और यूए(पी) अधिनियम की धाराओं के तहत नौ आरोपितों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया था।

Lohardaga Latehar NIA Raid