Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार युवक की मौत समेत बालूमाथ की चार खबरें||झारखंड: आग लगने की सूचना पर ट्रेन से कूदे यात्री, झाझा-आसनसोल यात्रियों के ऊपर से गुजरी, 12 की मौत||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पहुंचीं रांची, सेंट्रल यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में हुईं शामिल, कहा- दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की राह पर भारत||झारखंड में बिजली हुई महंगी, नयी दरें एक मार्च से होंगी लागू||झारखंड में बड़े पैमाने पर BDO की ट्रांसफर-पोस्टिंग, यहां देखें पूरी लिस्ट||दुमका में फिर पेट्रोल कांड, प्रेमिका और उसकी मां पर पेट्रोल डाल कर प्रेमी ने लगायी आग||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर, शव बरामद||UP राज्यसभा चुनाव में BJP के आठों उम्मीदवारों ने की जीत हासिल||माओवादी टॉप कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का सक्रिय सदस्य ढेचुआ गिरफ्तार||पलामू: तूफान और बारिश ने मचायी तबाही, दो छात्रों की मौत, कहीं गिरे पेड़ तो कहीं ब्लैकआउट
Thursday, February 29, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड: बढ़ते गतिरोध के बीच बदले गये 4 जिलों के नवनियुक्त कांग्रेस अध्यक्ष

रांची : बढ़ते गतिरोध के बीच झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के नवनियुक्त जिलाध्यक्षों में बड़े बदलाव किये हैं। झारखंड के चार जिलों के नवनियुक्त अध्यक्षों को हटा दिया गया है। उनके बदले नये अध्यक्ष नियुक्त किये गये हैं। जिसमें दो मुस्लिम और दो अनुसूचित जाति के हैं।

हटाये गये अध्यक्षों में तीन ब्राह्मण और एक ओबीसी जाति से

हटाये जाने वालों में रामगढ़, गढ़वा, साहिबगंज और कोडरमा के जिलाध्यक्ष शामिल हैं। जिन चार जिलाध्यक्षों को हटाया गया है, उनमें से तीन ब्राह्मण जाति और एक ओबीसी जाति से हैं। रामगढ़ में शांतनु मिश्रा के स्थान पर मुन्ना पासवान, गढ़वा में श्रीकांत तिवारी के स्थान पर उबेदुल्लाह हक अंसारी, साहिबगंज में अनिल कुमार ओझा के स्थान पर बरकतुल्लाह खान और कोडरमा में नारायण बरनवाल के स्थान पर भगीरथ पासवान को जगह दी गयी है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

आपको बता दें कि प्रदेश कांग्रेस में नवनियुक्त जिलाध्यक्षों के नाम आने के बाद से विरोध तेज होता जा रहा था। विरोध इतना ज्यादा था कि प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडेय पर दलित विरोधी और मुस्लिम विरोधी होने तक का आरोप लगा।

वहीं, कांग्रेस के पूर्व सांसद फुरकान अंसारी ने राष्ट्रीय अध्यक्ष मलिकार्जुन खड़गे से मुलाकात की और प्रदेश कांग्रेस के भीतर अल्पसंख्यकों और अनुसूचित जातियों के हाशिए पर जाने का मुद्दा उठाया। जिसके बाद ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के निर्देश पर चारों जिलों के नवनियुक्त अध्यक्षों को बदल दिया गया है।