Breaking :
||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस||पलामू: कोयला से भरा ट्रक और बीड़ी पत्ता लदा ऑटो जब्त, पांच गिरफ्तार, दो लातेहार के निवासी||लातेहार: नहाने के दौरान तालाब में डूबने से दस वर्षीय बच्चे की मौत, शव की तलाश में जुटे ग्रामीण
Friday, June 14, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड: बढ़ते गतिरोध के बीच बदले गये 4 जिलों के नवनियुक्त कांग्रेस अध्यक्ष

रांची : बढ़ते गतिरोध के बीच झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के नवनियुक्त जिलाध्यक्षों में बड़े बदलाव किये हैं। झारखंड के चार जिलों के नवनियुक्त अध्यक्षों को हटा दिया गया है। उनके बदले नये अध्यक्ष नियुक्त किये गये हैं। जिसमें दो मुस्लिम और दो अनुसूचित जाति के हैं।

हटाये गये अध्यक्षों में तीन ब्राह्मण और एक ओबीसी जाति से

हटाये जाने वालों में रामगढ़, गढ़वा, साहिबगंज और कोडरमा के जिलाध्यक्ष शामिल हैं। जिन चार जिलाध्यक्षों को हटाया गया है, उनमें से तीन ब्राह्मण जाति और एक ओबीसी जाति से हैं। रामगढ़ में शांतनु मिश्रा के स्थान पर मुन्ना पासवान, गढ़वा में श्रीकांत तिवारी के स्थान पर उबेदुल्लाह हक अंसारी, साहिबगंज में अनिल कुमार ओझा के स्थान पर बरकतुल्लाह खान और कोडरमा में नारायण बरनवाल के स्थान पर भगीरथ पासवान को जगह दी गयी है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

आपको बता दें कि प्रदेश कांग्रेस में नवनियुक्त जिलाध्यक्षों के नाम आने के बाद से विरोध तेज होता जा रहा था। विरोध इतना ज्यादा था कि प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडेय पर दलित विरोधी और मुस्लिम विरोधी होने तक का आरोप लगा।

वहीं, कांग्रेस के पूर्व सांसद फुरकान अंसारी ने राष्ट्रीय अध्यक्ष मलिकार्जुन खड़गे से मुलाकात की और प्रदेश कांग्रेस के भीतर अल्पसंख्यकों और अनुसूचित जातियों के हाशिए पर जाने का मुद्दा उठाया। जिसके बाद ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के निर्देश पर चारों जिलों के नवनियुक्त अध्यक्षों को बदल दिया गया है।