Breaking :
||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस||पलामू: कोयला से भरा ट्रक और बीड़ी पत्ता लदा ऑटो जब्त, पांच गिरफ्तार, दो लातेहार के निवासी||लातेहार: नहाने के दौरान तालाब में डूबने से दस वर्षीय बच्चे की मौत, शव की तलाश में जुटे ग्रामीण
Thursday, June 13, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडदक्षिणी छोटानागपुर

गुमला: नक्सलियों ने बॉक्साइट खनन कंपनी के आठ वाहनों को जलाया

गुमला : प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी ने सोमवार की रात करीब एक बजे गुमला जिले के घाघरा-सेरेंगदाग मार्ग पर सतकोनवा गांव स्थित बीकेबी, एमटीयू और डॉल्फिन कंपनी के आवासीय परिसर में खड़े आठ वाहनों को जला दिया।

घटना की जानकारी मिलते ही गुमला के पुलिस अधीक्षक हरविंदर सिंह, ऑपरेशन एसपी मनीष कुमार, सीआरपीएफ कमांडेंट राहुल कुमार, थाना प्रभारी अमित कुमार चौधरी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और स्थिति की जानकारी ली। मिली जानकारी के मुताबिक करीब 6-7 नक्सली सतकोनवा पहुंचे और करीब आधे घंटे तक उत्पात मचाया। उन्होंने वहां रह रहे कंपनी कर्मचारियों को उनके घरों से बाहर निकाला और हथियार के बल पर उन पर कब्जा कर लिया।

नक्सलियों ने आवासीय परिसर में ही खड़ी डॉल्फिन कंपनी की एक हाइवा को विस्फोट कर क्षतिग्रस्त कर दिया. साथ ही बीकेबी कंपनी के तीन हाइवा, एमटीयू कंपनी के एक हाइवा, एक टैंकर, पिकअप वैन और डॉल्फिन कंपनी के एक अन्य हाइवा में डीजल डालकर आग लगा दी। इस आगजनी की घटना में करोड़ों रुपये के नुकसान का अनुमान है।

नक्सलियों ने घटनास्थल पर कई हस्तलिखित पर्चे भी छोड़े हैं, जिसमें बॉक्साइट खनन करने वाली कंपनियों, ठेकेदारों, बेल्टर्स होश में आओ, मशीनीकरण और मनमानी बंद करो तथा जंगल और पहाड़ से उत्खनन, खदान क्षेत्र में आम लोगों की बुनियादी समस्याएं, स्वास्थ्य, शिक्षा, पेयजल, खाद, बीज आदि समस्या का समाधान करें, मशीनीकरण बंद करें, बेरोजगारों को रोजगार दें, बॉक्साइट खनन कंपनियों और खनन ठेकेदारों को संगठन से संपर्क किये बिना काम नहीं करने की चेतावनी दी गयी है।

हालांकि, लंबे समय से गुमला जिले में कोई नक्सली घटना नहीं हुई। लोगों को लगा कि उन्हें उग्रवाद से मुक्ति मिल गयी है लेकिन इस घटना ने यह साबित कर दिया है कि जंगल और पहाड़ी इलाकों में नक्सलियों की सक्रियता जारी है।

Gumla Naxali Attack News