Breaking :
||कैबिनेट की बैठक में 40 प्रस्तावों को मिली मंजूरी, राज्य कर्मियों की पेंशन योजना में संशोधन, अब पांच हजार रुपये मिलेगा पोशाक भत्ता||पलामू: नाबालिग से दुष्कर्म के दोषी को 20 साल सश्रम कारावास की सजा||चतरा के पांच अफीम तस्कर हजारीबाग में गिरफ्तार||झारखंड में 4 IPS अफसरों का तबादला, लातेहार SP के पद पर बने रहेंगे अंजनी अंजन, 27 IPS अधिकारियों का मूवमेंट ऑडर जारी||बालूमाथ के चोरझरिया घाटी में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार की मौत||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार युवक की मौत समेत बालूमाथ की चार खबरें||झारखंड: आग लगने की सूचना पर ट्रेन से कूदे यात्री, झाझा-आसनसोल यात्रियों के ऊपर से गुजरी, 12 की मौत||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पहुंचीं रांची, सेंट्रल यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में हुईं शामिल, कहा- दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की राह पर भारत||झारखंड में बिजली हुई महंगी, नयी दरें एक मार्च से होंगी लागू||झारखंड में बड़े पैमाने पर BDO की ट्रांसफर-पोस्टिंग, यहां देखें पूरी लिस्ट
Friday, March 1, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडदक्षिणी छोटानागपुर

गुमला: नक्सलियों ने बॉक्साइट खनन कंपनी के आठ वाहनों को जलाया

गुमला : प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी ने सोमवार की रात करीब एक बजे गुमला जिले के घाघरा-सेरेंगदाग मार्ग पर सतकोनवा गांव स्थित बीकेबी, एमटीयू और डॉल्फिन कंपनी के आवासीय परिसर में खड़े आठ वाहनों को जला दिया।

घटना की जानकारी मिलते ही गुमला के पुलिस अधीक्षक हरविंदर सिंह, ऑपरेशन एसपी मनीष कुमार, सीआरपीएफ कमांडेंट राहुल कुमार, थाना प्रभारी अमित कुमार चौधरी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और स्थिति की जानकारी ली। मिली जानकारी के मुताबिक करीब 6-7 नक्सली सतकोनवा पहुंचे और करीब आधे घंटे तक उत्पात मचाया। उन्होंने वहां रह रहे कंपनी कर्मचारियों को उनके घरों से बाहर निकाला और हथियार के बल पर उन पर कब्जा कर लिया।

नक्सलियों ने आवासीय परिसर में ही खड़ी डॉल्फिन कंपनी की एक हाइवा को विस्फोट कर क्षतिग्रस्त कर दिया. साथ ही बीकेबी कंपनी के तीन हाइवा, एमटीयू कंपनी के एक हाइवा, एक टैंकर, पिकअप वैन और डॉल्फिन कंपनी के एक अन्य हाइवा में डीजल डालकर आग लगा दी। इस आगजनी की घटना में करोड़ों रुपये के नुकसान का अनुमान है।

नक्सलियों ने घटनास्थल पर कई हस्तलिखित पर्चे भी छोड़े हैं, जिसमें बॉक्साइट खनन करने वाली कंपनियों, ठेकेदारों, बेल्टर्स होश में आओ, मशीनीकरण और मनमानी बंद करो तथा जंगल और पहाड़ से उत्खनन, खदान क्षेत्र में आम लोगों की बुनियादी समस्याएं, स्वास्थ्य, शिक्षा, पेयजल, खाद, बीज आदि समस्या का समाधान करें, मशीनीकरण बंद करें, बेरोजगारों को रोजगार दें, बॉक्साइट खनन कंपनियों और खनन ठेकेदारों को संगठन से संपर्क किये बिना काम नहीं करने की चेतावनी दी गयी है।

हालांकि, लंबे समय से गुमला जिले में कोई नक्सली घटना नहीं हुई। लोगों को लगा कि उन्हें उग्रवाद से मुक्ति मिल गयी है लेकिन इस घटना ने यह साबित कर दिया है कि जंगल और पहाड़ी इलाकों में नक्सलियों की सक्रियता जारी है।

Gumla Naxali Attack News