Breaking :
||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री||JPSC पीटी के मॉडल आंसर को चुनौती देने वाली याचिका हाईकोर्ट में खारिज, परीक्षा का रास्ता साफ||लातेहार: सेरेगड़ा पंचायत सेवक अर्जुन राम रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||झारखंड में चार DSP की ट्रांसफर-पोस्टिंग, समीर कुमार सवैया बने किस्को के DSP||झारखंड कैबिनेट का फैसला, सरकार करायेगी जातिगत गणना, विधायकों का वेतन भत्ता बढ़ा, रिटायर्ड कर्मचारियों को भी मिलेगी प्रमोशन
Friday, June 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में जल जीवन मिशन में हो रही गड़बड़ियों पर सांसद संजय सेठ ने केंद्र सरकार का कराया ध्यान आकृष्ट, राज्य सरकार पर लगाया आरोप

रांची : रांची के सांसद संजय सेठ ने गुरुवार को लोकसभा में झारखंड में जल जीवन मिशन में हो रही अनियमितताओं की ओर केंद्र सरकार का ध्यान आकर्षित किया। साथ ही हस्तक्षेप कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की।

सांसद ने कहा कि केंद्र सरकार ने झारखंड को करीब 10 हजार करोड़ रुपये की राशि भी उपलब्ध करायी, लेकिन राज्य सरकार इस मिशन के क्रियान्वयन में रुचि नहीं दिखा रही है। उन्होंने सदन में आरोप लगाया कि राज्य सरकार जानबूझकर इस योजना को फ्लॉप करने पर तुली हुई है। कहीं ठेकेदार 100-200 फीट बोरिंग कर रहे हैं तो कहीं पुरानी बोरिंग में ही जल जीवन मिशन शुरू कर रहे हैं। ऐसी कई शिकायतें आने लगी हैं। इस मामले में सांसद ने सरकार को सुझाव दिया कि इसकी समीक्षा के लिए एक कमेटी बनायी जाये। साथ ही ऐसे लोगों पर कार्रवाई होनी चाहिए।

सांसद के सवाल के जवाब में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व और मार्गदर्शन में रिकॉर्ड समय में भारत के 72 प्रतिशत घरों में नल से जल पहुंचाया गया है। कई राज्यों ने 100 प्रतिशत का आंकड़ा पूरा कर लिया है लेकिन कुछ राज्य ऐसे भी हैं जहां यह योजना लागू नहीं की जा रही है।

केंद्रीय मंत्री ने सदन में स्वीकार किया कि झारखंड को दी गयी भारी भरकम राशि का परिणाम आनुपातिक नहीं मिल रहा है। काम नहीं हो रहा है। केंद्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि शिकायत मिलने के बाद हम ऐसे दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करते हैं। हालाँकि, झारखंड सरकार के साथ हमारा समन्वय जारी है ताकि इस मिशन को बेहतर तरीके से यहां पूरा किया जा सके।

सत्र के बाद सांसद ने कहा कि रांची लोकसभा क्षेत्र से ही कई शिकायतें आती रहती हैं। यदि राज्य सरकार इस पर संज्ञान नहीं लेती है तो भारत सरकार के स्तर से इस योजना को सफल नहीं बनाने वालों के विरुद्ध कार्रवाई सुनिश्चित करेगी।

Jharkhand Jal Jeevan Mission