Breaking :
||रांची में बाइक सवार बदमाशों ने पति-पत्नी को मारी गोली, दोनों की मौत||TSPC के जोनल कमांडर ने किया बड़ा खुलासा, झारखंड में हिंसा फैलाने के लिए खरीद रहा था विदेशी हथियार||भारत-इंग्लैंड टेस्ट मैच को लेकर बल्लेबाज शुबमन गिल ने पत्रकारों से कहा- रांची में ही सीरीज जीतने के लिए हम तैयार||पलामू: बच्चों को आशीर्वाद देने निकले किन्नरों से मारपीट, आक्रोश||झारखंड: प्रेमी ने शादी से किया इंकार तो प्रेमिका ने दे दी जान||गढ़वा: JJMP के उग्रवादियों ने पुल निर्माण स्थल पर मचाया उत्पात, मशीनों में की तोड़फोड़, मजदूरों से मारपीट||झारखंड विधानसभा का बजट सत्र 23 फरवरी से, स्पीकर ने की उच्च स्तरीय बैठक||विधायक भानु प्रताप शाही एससी-एसटी एक्ट में बरी, चार लोगों को छह-छह माह कारावास की सजा||रांची पहुंची भारत और इंग्लैंड की टीमें, पारंपरिक अंदाज में हुआ स्वागत||लातेहार: ईंट भट्ठा पर फायरिंग कर अपराधियों ने फैलायी दहशत, कर्मियों को पीटा, संचालक को दी चेतावनी
Thursday, February 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में 30 हजार से अधिक महिलाओं को मिला फूलो झानो आशीर्वाद अभियान का लाभ, दूसरों के लिए बनीं प्रेरणास्रोत

Jharkhand Phulo Jhano Ashirwad Abhiyan

महिलाओं को 2,353 लाख रुपये से अधिक मिली ऋण की धनराशि

रांची : राज्य में हड़िया और शराब बिक्री एवं निर्माण कार्य से जुड़ी महिलाओं के दिन बहुरने लगे हैं। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के सार्थक प्रयास का प्रतिफल है कि 20 सितंबर 2020 को शुरू हुई इस योजना के जरिये हड़िया और शराब बिक्री एवं निर्माण कार्य से जुड़ी 30,013 महिलाओं ने सम्मानजनक आजीविका को अपने जीवन का आधार बनाया। आज ये महिलाएं समाज में बदलाव की कहानी गढ़ दूसरों के लिए प्रेरणास्रोत बन रही हैं।

जागरूकता ने निभाया अहम किरदार, सरकार से मिला सहयोग

मुख्यमंत्री के निर्देश पर फूलो झानो आशीर्वाद अभियान का शुभारंभ हड़िया और शराब बिक्री एवं निर्माण कार्य से जुड़ी महिलाओं को सम्मानजनक आजीविका प्रदान करने के उद्देश्य से किया गया था। अभियान का प्रथम चरण सितम्बर 2020 से प्रारम्भ हुआ। सर्वेक्षण के माध्यम से इस कार्य से जुड़ी महिलाओं की संख्या 15,284 दर्ज की गयी। इनके बीच जागरूकता अभियान चलाया गया, ताकि ये वैकल्पिक सम्मानजनक आजीविका गतिविधियों से जुड़ अपने जीवन को नयी दिशा दे सकें। सरकार को इसमें सफलता मिली और 14,243 महिलाओं को रोजगार के अन्य वैकल्पिक साधनों से जोड़ा गया।

राज्य सरकार की सफलता

इस चरण में महिलाओं के बीच ब्याज मुक्त कुल 1,424.3 लाख ऋण की सहयोग धनराशि उपलब्ध करायी गयी। इसके बाद अभियान का दूसरा चरण 15 नवंबर 2021 से 28 दिसंबर 2021 तक संचालित किया गया। इसमें सर्वेक्षण के माध्यम से 9, 474 महिलाएं चिन्हित हुईं और 9,291 महिलाओं को वैकल्पिक सम्मानजनक आजीविका गतिविधियों से जोड़ने में सफलता मिली। इन्हें रोजगार के अन्य साधनों से जोड़ने के लिए 929.1 लाख ब्याज मुक्त धनराशि उपलब्ध करायी गयी। इस तरह दो चरण में योजना के तहत 2,353.4 लाख की धनराशि महिलाओं को स्वरोजगार के लिए दी गयी। इसके बाद भी अभियान नहीं रुका। हड़िया और शराब बिक्री एवं निर्माण कार्य से जुड़ी महिलाओं को चिन्हित करने का कार्य पूरे राज्य में चलता रहा। इसका परिणाम है कि अबतक 30,013 महिलाओं को इस योजना से जोड़ बेहतर जीवन के अवसर प्रदान करने में राज्य सरकार को सफलता प्राप्त हुई है।