Breaking :
||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता की गला रेत कर हत्या, जांच में जुटी पुलिस

रघुवर सरकार के पांच मंत्रियों पर निगरानी जांच के आदेश, प्रत्यानुपातिक धनार्जन के आरोप की पुष्टि

राँची : मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने पूर्व मंत्री अमर बाउरी, रणधीर सिंह, डॉ. नीरा यादव, लुईस मराण्डी एवं नीलकंठ सिंह मुंडा के विरुद्ध प्रत्यानुपातिक धनार्जन की अग्रेतर जांच हेतु पी.ई. दर्ज करने के लिए मंत्रिमंडल सचिवालय एवं निगरानी विभाग (निगरानी) को दिया निर्देश।

सनद रहे कि W.P. (PIL) 316/ 2020 पंकज कुमार यादव बनाम झारखंड राज्य एवं अन्य के संबंध में मंत्रिमंडल सचिवालय एवं निगरानी विभाग द्वारा पूर्व सरकार के मंत्रियों के विरुद्ध आई.आर. दर्ज कर गोपनीय सत्यापन प्रतिवेदन उपलब्ध कराने का अनुरोध भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो, रांची से किया गया है, जिसमें भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो रांची द्वारा पूर्व मंत्री अमर कुमार बाउरी, पूर्व मंत्री रणधीर कुमार सिंह, पूर्व मंत्री डॉ. नीरा यादव, पूर्व मंत्री लुईस मरांडी एवं पूर्व मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा पर परिवादी द्वारा लगाए गए प्रत्यानुपातिक धनार्जन के आरोप के लिए अब तक के गोपनीय सत्यापन से पुष्टि होने का उल्लेख करते हुए उनके विरुद्ध अलग-अलग पी.ई. दर्ज करने हेतु अनुमति की मांग की गई है।

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो, रांची के सत्यापन प्रतिवेदन के उपरांत मंत्रिमंडल सचिवालय एवं निगरानी विभाग (समन्वय) द्वारा मुख्यमंत्री से पूर्व मंत्रियों के विरुद्ध प्रत्यानुपातिक धनार्जन कि अग्रेतर जांच हेतु पी.ई. दर्ज करने के बिंदु पर अनुरोध किया गया था।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें