Breaking :
||झारखंड में पांचवें चरण का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न, आचार संहिता उल्लंघन के सात मामले दर्ज||लातेहार में शांतिपूर्ण माहौल में मतदान संपन्न, 65.24 फीसदी वोटिंग||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश
Tuesday, May 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

विधायक सरयू राय ने की भविष्यवाणी, कहा- दिसंबर तक शायद ही बरकरार रहे हेमंत सरकार

रांची : भारतीय जनतंत्र मोर्चा के मुख्य संरक्षक और विधायक सरयू राय ने कहा कि जो संकेत मिल रहे हैं, उससे प्रतीत होता है कि झारखंड की हेमंत सरकार दिसंबर तक शायद ही बरकरार रहे। उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार विधि सम्मत तरीके से काम नहीं कर रही है। करप्शन तेजी से बढ़ रहा है और सरकार से शिकायत करने के बावजूद कोई असर नहीं हो रहा है।

वह रविवार को कृष्णा पैलेस में मोर्चा के तत्वावधान में आयोजित प्रतिनिधि सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। सरयू राय ने कहा कि लोग ईडी की मंशा पर सवाल उठाते हैं लेकिन मेरा सवाल यह है कि ईडी ने जिनके विरुद्ध भी कार्रवाई की है, उस कार्रवाई में कोई मीन-मेख निकला हो तो उसे सार्वजनिक करना चाहिए। कोई भ्रष्टाचार कर रहा है तो ईडी कार्रवाई करेगी ही। यदि किसी को लगता है कि ईडी की कार्रवाई में कोई गड़बड़ी है तो सप्रमाण उसे पब्लिक डोमेन में रखें।

जमशेदपुर पूर्वी के विधायक ने कहा कि झारखंड की सरकार में करप्शन काफी बढ़ गया है। जो भी भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रहा है, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। साथ ही कहा कि उन्होंने विधानसभा में सबूतों के साथ तथ्य रखे लेकिन उन पर कोई एक्शन नहीं हुआ। स्पीकर के निर्देश के बावजूद कार्रवाई नहीं हुई। उन्होंने कहा कि कोई भी करप्शन चार्जेज हो, सरकार तुरंत एक कमेटी गठित कर देती है और कहती है कि 30 दिनों के भीतर रिपोर्ट दें। 30 दिनों के भीतर रिपोर्ट आ जानी चाहिए लेकिन झारखंड में तो तीन-तीन साल तक कोई रिपोर्ट नहीं आती। ये काम करने का कौन सा तरीका है?

उन्होंने कहा कि मैं 32 के खतियान के विरोध में नहीं हूं। आप करना चाहते हैं तो करें पर आपको 1932 और 2023 के बीच जो कुछ भी इस राज्य में घटा है, उसे समझना पड़ेगा। उसे आप न भूलें। यदि आप उसे भूलेंगे तो राज्य नहीं चलेगा। लोग दिखाते हैं अपना खतियान। हमें उससे कोई तकलीफ नहीं। यह हम सभी की जिम्मेदारी है कि इस झारखंड को अपना राज्य मानें। तभी बेहतर भविष्य सामने आयेगा।

Jharkhand Latest News Today