Breaking :
||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव

सिमडेगा में नाबालिग लड़की ने दिया स्वस्थ्य बच्चे को जन्म, गांव के ही युवक ने डरा धमका कर……

सिमडेगा : सिमडेगा के केशलपुर डोंगापानी की 14 वर्षीय किशोरी पैदल ही अस्पताल पहुंची। लड़की गर्भवती थी और एनीमिक भी थी। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां नॉर्मल डिलीवरी से उसने बेटे को जन्म दिया। बच्चा और जच्चा दोनों पूरी तरह स्वस्थ हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

बताया गया कि गांव निवासी जय राम नायक नामक व्यक्ति ने युवती को डरा धमका कर उससे संबंध स्थापित किया। जब युवती गर्भवती हो गयी तो युवक उसे छोड़कर भाग गया। इसके पूर्व गांव में बैठक हुई, जिसमें ग्रामीणों ने युवक पर शादी का दबाव बनाया। इसके बाद युवक गांव से फरार हो गया जबकि परिजनों का कहना है कि वह कमाने के लिए दूसरे शहर गया है। जब लड़की के माता-पिता को पता चला कि बेटी गर्भवती हो गयी है तो उन्होंने उसे स्कूल जाने से रोक दिया और लड़की घर पर रहने लगी।

जानकारी के अनुसार गर्भवती नाबालिग लड़की अपने बीमार भाई को देखने अस्पताल गयी थी। लड़की का भाई कुछ दिनों से अस्वस्थ था और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लड़की जब अस्पताल पहुंची तो अस्पताल में कार्यरत एक महिला स्टाफ नर्स की नजर नाबालिग बच्ची पर पड़ी। उसे शक था कि वह गर्भवती है और एनीमिक भी है। जब उसकी जांच की गयी तो एनीमिया की जानकारी मिली। उसे भर्ती कर ब्लड चढ़ाना शुरू किया गया। इसी बीच नाबालिग लड़की को प्रसव पीड़ा हुई और उसने नॉर्मल डिलीवरी से बेटे को जन्म दिया।

लड़की के गर्भवती होने की जानकारी परिजनों ने पुलिस को नहीं दी थी। ऐसे में परिजन बदनामी की डर से छिपाना चाहते थे। बच्ची की नॉर्मल डिलीवरी कराने वाली महिला डॉक्टर भी छुट्टी पर हैं। डॉक्टर ने फोन पर बातचीत में बताया कि बच्ची गर्भवती थी, हमने उसके माता-पिता से बात की और उनकी अनुमति से सकुशल प्रसव कराया। जच्चा व बच्चा पूरी तरह स्वस्थ हैं। बच्ची के मां बनने की जानकारी पुलिस और बाल कल्याण समिति को भी दी गयी। सूचना मिलते ही बाल कल्याण समिति के सदस्य सदर अस्पताल पहुंचे।