Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Thursday, May 30, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड: पुलिसकर्मियों के मेडिकल बिल को मिली मंजूरी, 491 के इलाज के लिए एक करोड़ 39 लाख स्वीकृत

रांची : झारखंड में तैनात 491 पुलिसकर्मियों के चिकित्सा बिल स्वीकृत करते हुए एक करोड़ 39 लाख रुपये स्वीकृत किये गये हैं। डीजीपी की अध्यक्षता में केंद्रीय प्रबंधन समिति की बैठक हुई, जिसके बाद पुलिस सहायता एवं कल्याण कोष से उन पुलिसकर्मियों एवं उनके निकट संबंधियों के इलाज के लिए अलग-अलग राशि स्वीकृत की गयी है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

शारीरिक रूप से बीमार पुलिसकर्मियों और उनके परिवारों को झारखंड पुलिस सहायता कल्याण कोष से बड़ी मदद मिलने की उम्मीद है। किडनी ट्रांसप्लांट, कैंसर जैसी गंभीर बीमारी के इलाज के लिए पुलिस मुख्यालय में आवेदन करने वाले पुलिसकर्मियों के लिए झारखंड पुलिस सहायता एवं कल्याण कोष से राहत राशि स्वीकृत की गयी है। यह राशि पांच हजार रुपये से 1.20 लाख रुपये तय की गयी है।

गौरतलब है कि 544 पुलिसकर्मियों ने आवेदन किया था, जिनमें से 34 आवेदन लंबित हैं जबकि 19 आवेदन खारिज कर दिये गये हैं। अन्य 491 के आवेदनों की स्वीकृति के बाद उपचार के लिए एक करोड़ 39 लाख की राशि आवंटित की गयी है।

झारखंड के कई विभिन्न जिलों के पुलिसकर्मियों ने पत्नी के प्रसव के दौरान सीजर ऑपरेशन, गर्भावस्था संबंधी कई समस्याओं के इलाज के लिए विभाग से आर्थिक मदद मांगी थी। वहीं कई पुलिसकर्मियों ने अपनी मां, पिता और बच्चों के इलाज के लिए आर्थिक स्थिति का हवाला देते हुए कल्याण कोष से मदद के लिए आवेदन किया था।