Breaking :
||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर

झारखंड: पुलिसकर्मियों के मेडिकल बिल को मिली मंजूरी, 491 के इलाज के लिए एक करोड़ 39 लाख स्वीकृत

रांची : झारखंड में तैनात 491 पुलिसकर्मियों के चिकित्सा बिल स्वीकृत करते हुए एक करोड़ 39 लाख रुपये स्वीकृत किये गये हैं। डीजीपी की अध्यक्षता में केंद्रीय प्रबंधन समिति की बैठक हुई, जिसके बाद पुलिस सहायता एवं कल्याण कोष से उन पुलिसकर्मियों एवं उनके निकट संबंधियों के इलाज के लिए अलग-अलग राशि स्वीकृत की गयी है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

शारीरिक रूप से बीमार पुलिसकर्मियों और उनके परिवारों को झारखंड पुलिस सहायता कल्याण कोष से बड़ी मदद मिलने की उम्मीद है। किडनी ट्रांसप्लांट, कैंसर जैसी गंभीर बीमारी के इलाज के लिए पुलिस मुख्यालय में आवेदन करने वाले पुलिसकर्मियों के लिए झारखंड पुलिस सहायता एवं कल्याण कोष से राहत राशि स्वीकृत की गयी है। यह राशि पांच हजार रुपये से 1.20 लाख रुपये तय की गयी है।

गौरतलब है कि 544 पुलिसकर्मियों ने आवेदन किया था, जिनमें से 34 आवेदन लंबित हैं जबकि 19 आवेदन खारिज कर दिये गये हैं। अन्य 491 के आवेदनों की स्वीकृति के बाद उपचार के लिए एक करोड़ 39 लाख की राशि आवंटित की गयी है।

झारखंड के कई विभिन्न जिलों के पुलिसकर्मियों ने पत्नी के प्रसव के दौरान सीजर ऑपरेशन, गर्भावस्था संबंधी कई समस्याओं के इलाज के लिए विभाग से आर्थिक मदद मांगी थी। वहीं कई पुलिसकर्मियों ने अपनी मां, पिता और बच्चों के इलाज के लिए आर्थिक स्थिति का हवाला देते हुए कल्याण कोष से मदद के लिए आवेदन किया था।