Breaking :
||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली

मार्च के दूसरे सप्ताह से होगी झारखंड में मैट्रिक और इंटर की परीक्षा

रांची : झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं मार्च के दूसरे सप्ताह से होंगी। इस बार परीक्षा सिर्फ एक टर्म में करायी जायेगी। पिछले साल कोरोना के चलते मैट्रिक और इंटर की परीक्षा दो टर्म में ली गयी थी। परीक्षा फॉर्म भरने की प्रक्रिया पूरी कर ली गयी है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

झारखंड एकेडमिक काउंसिल परीक्षा शुरू करने की तारीख पर विचार कर रही है। अभी परीक्षा की तिथि स्पष्ट नहीं है लेकिन परीक्षा 13 या 14 मार्च से ली जा सकती है। झारखंड एकेडमिक काउंसिल के अध्यक्ष डॉ. अनिल कुमार महतो ने बुधवार को बताया कि परीक्षा को लेकर तैयारी चल रही है।

उन्होंने बताया कि शिक्षा विभाग ने होली के बाद परीक्षा कराने के संबंध में सुझाव दिये थे, लेकिन होली के तुरंत बाद परीक्षा शुरू नहीं की जा सकती है। उस दौरान छुट्टियां होती हैं। ऐसे में परीक्षा की अंतिम तारीख को लेकर बातचीत चल रही है। मार्च के दूसरे सप्ताह में शुरू होने जा रही बोर्ड परीक्षाओं से पहले फरवरी में ही प्रैक्टिकल और इंटरनल मार्क्स असेसमेंट किया जायेगा।

महतो ने बताया कि कोरोना खत्म होने के बाद इस साल बोर्ड की परीक्षाएं पूरे सिलेबस पर आधारित होंगी। पिछले साल सिलेबस में कटौती की गयी थी लेकिन इस साल ऐसा नहीं होगा। इस वर्ष की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर झारखंड एकेडमिक काउंसिल द्वारा बनाए गये पैटर्न के अनुसार पूरे सिलेबस से ऑब्जेक्टिव और सब्जेक्टिव प्रश्न पूछे जायेंगे। 50 प्रतिशत प्रश्न वस्तुनिष्ठ होंगे, जिनका उत्तर ओएमआर शीट पर देना होगा। पिछले साल की बोर्ड परीक्षाएं 75 फीसदी सिलेबस पर ही ली गयी थीं।