Breaking :
||दुमका में फिर पेट्रोल कांड, प्रेमिका और उसकी मां पर पेट्रोल डाल कर प्रेमी ने लगायी आग||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर, शव बरामद||UP राज्यसभा चुनाव में BJP के आठों उम्मीदवारों ने की जीत हासिल||माओवादी टॉप कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का सक्रिय सदस्य ढेचुआ गिरफ्तार||पलामू: तूफान और बारिश ने मचायी तबाही, दो छात्रों की मौत, कहीं गिरे पेड़ तो कहीं ब्लैकआउट||झारखंड के 4 IAS अधिकारियों का तबादला, JPSC के सचिव का भी हुआ ट्रांसफर||झारखंड में 23 IPS अफसरों का तबादला, अंजनी अंजन बने रांची के ग्रामीण एसपी||पलामू: ग्रामीण डॉक्टर का अपहरण, मरीज को दिखाने के बहाने क्लिनिक में आये थे अपराधी||Jharkhand Budget: बाबूलाल मरांडी ने कहा- बजट में जन कल्याणकारी योजनाओं का समावेश नहीं||विधानसभा में 1.28 लाख करोड़ का बजट पेश, 2 लाख तक के कृषि ऋण होंगे माफ़, जानिये सरकार की अन्य घोषणायें
Wednesday, February 28, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

मार्च के दूसरे सप्ताह से होगी झारखंड में मैट्रिक और इंटर की परीक्षा

रांची : झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं मार्च के दूसरे सप्ताह से होंगी। इस बार परीक्षा सिर्फ एक टर्म में करायी जायेगी। पिछले साल कोरोना के चलते मैट्रिक और इंटर की परीक्षा दो टर्म में ली गयी थी। परीक्षा फॉर्म भरने की प्रक्रिया पूरी कर ली गयी है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

झारखंड एकेडमिक काउंसिल परीक्षा शुरू करने की तारीख पर विचार कर रही है। अभी परीक्षा की तिथि स्पष्ट नहीं है लेकिन परीक्षा 13 या 14 मार्च से ली जा सकती है। झारखंड एकेडमिक काउंसिल के अध्यक्ष डॉ. अनिल कुमार महतो ने बुधवार को बताया कि परीक्षा को लेकर तैयारी चल रही है।

उन्होंने बताया कि शिक्षा विभाग ने होली के बाद परीक्षा कराने के संबंध में सुझाव दिये थे, लेकिन होली के तुरंत बाद परीक्षा शुरू नहीं की जा सकती है। उस दौरान छुट्टियां होती हैं। ऐसे में परीक्षा की अंतिम तारीख को लेकर बातचीत चल रही है। मार्च के दूसरे सप्ताह में शुरू होने जा रही बोर्ड परीक्षाओं से पहले फरवरी में ही प्रैक्टिकल और इंटरनल मार्क्स असेसमेंट किया जायेगा।

महतो ने बताया कि कोरोना खत्म होने के बाद इस साल बोर्ड की परीक्षाएं पूरे सिलेबस पर आधारित होंगी। पिछले साल सिलेबस में कटौती की गयी थी लेकिन इस साल ऐसा नहीं होगा। इस वर्ष की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर झारखंड एकेडमिक काउंसिल द्वारा बनाए गये पैटर्न के अनुसार पूरे सिलेबस से ऑब्जेक्टिव और सब्जेक्टिव प्रश्न पूछे जायेंगे। 50 प्रतिशत प्रश्न वस्तुनिष्ठ होंगे, जिनका उत्तर ओएमआर शीट पर देना होगा। पिछले साल की बोर्ड परीक्षाएं 75 फीसदी सिलेबस पर ही ली गयी थीं।