Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Saturday, June 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

सरेंडर करने से पहले ही माओवादियों ने सब-जोनल कमांडर की कर दी ह्त्या

रांची : सरेंडर करने से पहले ही सब-जोनल कमांडर गुलशन सिंह मुंडा उर्फ गड़ी मुंडा उर्फ सुभाष मुंडा की सेंट्रल कमेटी के सदस्य अनल दा ने हत्या कर दी। गुलशन पर 5 लाख रुपये का इनाम था। हत्या के आरोपी शीर्ष नक्सली अनल दा पर एक करोड़ का इनाम है। यह जानकारी पुलिस मुख्यालय और विशेष शाखा के अधिकारियों को भी मिली है। लेकिन शव नहीं मिलने के कारण पुलिस अधिकारियों ने अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की है।

इसलिए पुलिस ने गुलशन को फरार नक्सलियों की लिस्ट में ही रखा है। इधर नक्सलियों ने गुलशन की हत्या का दावा भी नहीं किया है। पुलिस अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार उन्हें जानकारी मिली है कि हत्या के बाद गुलशन के शव को भी दफना दिया गया है। लेकिन कहां, इसे लेकर कुछ भी साफ नहीं हो पाया है। गुलशन के पिता का नाम सोमरा मुंडा है और वह बुंडू के बारूहातू का रहने वाला था।

माओवादी गुलशन का भाई सुरेश मुंडा भी जोनल कमांडर के पद पर था। सरकार की ओर से उस पर 10 लाख रुपये का इनाम घोषित था। लेकिन वह अपनी बेटी के अनुरोध के बाद 1 मार्च को रांची पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। उसके साथ एरिया कमांडर लोद्रो लोहरा उर्फ सुभाष ने भी आत्मसमर्पण किया।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार सुरेश ने सरेंडर करने के बाद अपने भाई को मुख्यधारा में लौटने को कहा था, जिससे प्रभावित होकर गुलशन भी आत्मसमर्पण करने की तैयारी कर रहा था। लेकिन इसी बीच शीर्ष नक्सलियों को उसके आत्मसमर्पण करने की योजना की जानकारी मिली और उसकी ह्त्या कर दी गयी।