Breaking :
||हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा ने राजनीति से लिया संन्यास, भाजपा अध्यक्ष को लिखा पत्र, जानिये वजह||दुमका में स्पेनिश महिला पर्यटक से गैंग रेप, तीन आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: बारियातू में बाइक पर अवैध कोयला ले जा रहे नौ लोग गिरफ्तार, जेल||लातेहार: अपराध की योजना बनाते दो युवक हथियार के साथ गिरफ्तार||पलामू: पेड़ से टकराकर पुल से नीचे गिरी बाइक, दो नाबालिग छात्रों की मौत, दो की हालत नाजुक||लोकसभा चुनाव: भाजपा ने की झारखंड से 11 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा, चतरा समेत इन तीन सीटों पर सस्पेंस बरकरार||लोससभा चुनाव: भाजपा की 195 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी, देखें पूरी लिस्ट||सदन की कार्यवाही शुरू होते ही सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों का हंगामा||झारखंड विधानसभा: बजट सत्र के अंतिम दिन कई विधेयक पारित||धनबाद: अस्पताल में लगी आग, मची अफरा-तफरी, मरीज और परिजन जान बचाकर भागे
Saturday, March 2, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

सरेंडर करने से पहले ही माओवादियों ने सब-जोनल कमांडर की कर दी ह्त्या

रांची : सरेंडर करने से पहले ही सब-जोनल कमांडर गुलशन सिंह मुंडा उर्फ गड़ी मुंडा उर्फ सुभाष मुंडा की सेंट्रल कमेटी के सदस्य अनल दा ने हत्या कर दी। गुलशन पर 5 लाख रुपये का इनाम था। हत्या के आरोपी शीर्ष नक्सली अनल दा पर एक करोड़ का इनाम है। यह जानकारी पुलिस मुख्यालय और विशेष शाखा के अधिकारियों को भी मिली है। लेकिन शव नहीं मिलने के कारण पुलिस अधिकारियों ने अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की है।

इसलिए पुलिस ने गुलशन को फरार नक्सलियों की लिस्ट में ही रखा है। इधर नक्सलियों ने गुलशन की हत्या का दावा भी नहीं किया है। पुलिस अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार उन्हें जानकारी मिली है कि हत्या के बाद गुलशन के शव को भी दफना दिया गया है। लेकिन कहां, इसे लेकर कुछ भी साफ नहीं हो पाया है। गुलशन के पिता का नाम सोमरा मुंडा है और वह बुंडू के बारूहातू का रहने वाला था।

माओवादी गुलशन का भाई सुरेश मुंडा भी जोनल कमांडर के पद पर था। सरकार की ओर से उस पर 10 लाख रुपये का इनाम घोषित था। लेकिन वह अपनी बेटी के अनुरोध के बाद 1 मार्च को रांची पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। उसके साथ एरिया कमांडर लोद्रो लोहरा उर्फ सुभाष ने भी आत्मसमर्पण किया।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार सुरेश ने सरेंडर करने के बाद अपने भाई को मुख्यधारा में लौटने को कहा था, जिससे प्रभावित होकर गुलशन भी आत्मसमर्पण करने की तैयारी कर रहा था। लेकिन इसी बीच शीर्ष नक्सलियों को उसके आत्मसमर्पण करने की योजना की जानकारी मिली और उसकी ह्त्या कर दी गयी।