Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Thursday, May 30, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: माओवादी जीतेंद्र नागेशिया ने पुलिस के सामने किया सरेंडर, बूढ़ा पहाड़ इलाके में था सक्रिय

लातेहार : भाकपा माओवादी के एरिया कमांडर जीतेंद्र नागेशिया ने शुक्रवार को पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। पुलिस कार्यालय के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में डीसी हिमांशु मोहन और एसपी अंजनी अंजन ने पुष्पगुच्छ देकर जितेंद्र नगेसिया का स्वागत किया।

जानकारी के मुताबिक, गढ़वा जिले के भंडरिया का रहने वाला जितेंद्र नगेसिया पिछले पांच साल से माओवादी संगठन से जुड़ा था। वह लातेहार जिले के बूढ़ा पहाड़ इलाके में सक्रिय था। इस पर लातेहार जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रों में नक्सली घटनाओं के करीब आधा दर्जन मामले दर्ज हैं।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मौके पर डीसी हिमांशु मोहन ने कहा कि जो लोग पैसा कमाने के लिए अपराध का सहारा लेते हैं, वे कभी खुश नहीं रहते। उन्होंने नक्सलियों से समाज की मुख्यधारा से जुड़कर कड़ी मेहनत करने की अपील की। सही रास्ते पर मेहनत करने वालों की प्रशासन और पुलिस हर कदम पर मदद के लिए तैयार रहती है।

एसपी अंजनी अंजन ने कहा कि पुलिस बूढ़ा पहाड़ इलाके को नक्सलियों से मुक्त कराने के साथ-साथ जनहित में भी लगातार कई काम कर रही है। इससे प्रभावित होकर नक्सली जीतेंद्र नगेसिया ने सरकार की आत्मसमर्पण नीति का फायदा उठाते हुए पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया है। उन्होंने क्षेत्र में सक्रिय अन्य नक्सलियों से भी अपील की है कि वे सरकार की आत्मसमर्पण नीति का लाभ उठाकर समाज की मुख्यधारा में शामिल हों और अपने परिवार के साथ खुशी-खुशी अपना जीवन व्यतीत करें।

सरेंडर करने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए जितेंद्र नगेसिया ने बताया कि साल 2018 में नक्सली उसके गांव आये थे और उन पर जबरदस्ती दबाव बनाकर संगठन में शामिल कर लिया था, लेकिन सरकार की सरेंडर नीति से प्रभावित होकर उसने खुद को पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है।

Latehar Maoist Jitendra Nagesia surrenders