Breaking :
||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली

लातेहार: हेरहंज पहुंचा आदमखोर तेंदुआ, दो जानवरों का किया शिकार, एक की मौत, एक घायल

हेरहंज में तेंदुआ

नितीश कुमार यादव/हेरहंज

लातेहार : जिले के हेरहंज प्रखंड में शनिवार की रात आदमखोर तेंदुए ने दो जानवरों पर हमला कर दिया। इस हमले में एक पशु की मौत हो गयी है, जबकि दूसरा बुरी तरह घायल हो गया है। घटना प्रखंड के तासू पंचायत के हुन्ड्रा गांव की है। हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि किस जंगली जानवर ने पशुओं पर हमला किया है। ग्रामीणों के मुताबिक़ वह तेंदुआ ही था। घटना के बाद से ग्रामीणों में दहशत का माहौल है।

घायल बछिया

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

ग्रामीणों ने बताया कि रात में सभी पशुओं को घर के बगल में बांध कर रखा गया था। देर रात तेंदुए ने उनपर हमला कर दिया। इस दौरान तेंदुए ने एक जानवर को बुरी तरह से मार डाला। जबकि दूसरे को काटकर घायल कर दिया। जिसे मार डाला वह अर्जुन राम की बतायी जा रही है जबकि घायल बछिया संजय राम की है। जिस पशु को तेंदुए ने मार डाला वह दुधारू थी उसी रात उसने एक बछड़े को जन्म दिया था।

बताया गया कि जिस तरह से जानवर पर हमला किया गया है, वह कोई और जंगली जानवर नहीं बल्कि तेंदुआ रहा होगा। क्योंकि उसने सिर्फ जानवरों का मांस खाया है। यदि कोई लकड़बग्घा होता तो वह मांस ही नहीं हड्डियाँ भी खाता।

इसे भी पढ़ें :- JOB: नेतरहाट आवासीय विद्यालय में नॉन टीचिंग स्टाफ के 12 पदों पर भर्ती, 25 फरवरी तक कर सकते हैं आवेदन

घटना के बाद ग्रामीणों ने वनपाल अभय भगत को सूचना दी। वनपाल ने तुरंत वन समिति के लोगों को मौके पर भेजा। वन समिति के अध्यक्ष बालचंद साव ने मौके पर पशु चिकित्सक को बुलाकर घायल पशु का उपचार कराया।

सिर्फ हड्डियां व चमड़े को छोड़ा

हालांकि डॉक्टर ने बताया कि बछिया की हालत भी काफी गंभीर है, ऐसा लग रहा है कि वह भी बच नहीं पायेगी। इसे देखते हुए ग्रामीणों ने वनक्षेत्र पदाधिकारी राकेश कुमार से उचित मुआवजे की मांग की है। ग्रामीणों ने वन विभाग से सुरक्षा की भी गुहार लगायी है।

हेरहंज में तेंदुआ